Fri. May 27th, 2022

ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज के भारत के दोगलों के ख़िलाफ़ बनाए वीडेओ ने मचाया इंटर्नेट पर भौकाल।इंटर्नेट पर लगभग २६ करोड़ ने देखा, २२ करोड़ ने साझा किया।वीडेओ की एक नक़ली क्लिप से कुछ हुए गुमराह।कुछ राजपूत हुए गुमराह।पाकिस्तान की साज़िश का पर्दाफ़ाश। वीडेओ से छेड़छाड़ करने वाला जाएगा जेल।२००० करोड़ की मानहानि का मामला दर्ज।

2 min read

नई दिल्ली-  (दिनांक-  2 जुलाई २०२१)  “ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज” (Grandmaster Shifuji)  एक ऐसा नाम जिसे सुनकर भारत के करोड़ों युवाओं और देशभक्तों को सबसे पहले  “इंक़लाब ज़िंदाबाद ,भारत माँ  की जय, जय हिंद, वन्दे मातरम” का नारा और एक ऊर्जावान क्रांतिकारी आवाज़ जो हमेशा सच के साथ पार्टीवाद- राजनीति से हटकर देश के ग़द्दारों के ख़िलाफ़ गरजता हुआ एक बेबाक़,निडर,निर्भीक इंसान याद आता है।भारत के करोड़ों युवा ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज को अपना आदर्श और अपना गुरु मानते हैं।

ग्रांडमास्टर शिफूजी की फ़र्ज़ी वीडेओ क्लिप बनाने वाले और फैलाने वालों का पर्दाफ़ाश पाकिस्तान के चिरकुट हैकर्ज़ का था ये ना-पाक काम

इंडीयन कट्टर देशभक्त साइबर एक्स्पर्ट्स की टीम के अनुसार १७ सेकंड और मिनट  के फ़र्ज़ी वीडेओ ३० जून को सबसे पहले पाकिस्तान के IP ऐड्रेस 27.54.120.7356.76  पेशावर शहर के मुजावर फ़र्नीचर बाज़ार के वालीहा मटन शाप के ऊपर वाले के॰जी॰एन साइबर कैफ़े”   से आधीरात २:१७ मिनट पर और उसके बाद पाकिस्तान के मरदान,मिंगोरा  जिलों से उसी समय लगभग ७० हज़ार  ग्रूप्स में बल्क में इंटर्नेट और वट्स एप पर अधिकतर राजपूतों को बहकाने के लिए, री-एडिट करके, उसके साथ ख़ुद को राजपूत ग्रूप का आदमीं बताते हुए, ग्रांडमास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ एक विवादित और भड़कासंदेश बनाकर उसे इन ग्रूप्स में पाकिस्तान से Share किया गया। सबसे ज़्यादा उत्तर प्रदेश, राजस्थान, जम्मू, हरियाणा जैसे राजपूत बाहुल्य राज्यों में सुनियोजित तरीक़े से फैलाया गया। इस  पूरी साज़िश के पीछे पाकिस्तान की एजेन्सी ISI का हाथ नहीं बल्कि पूरा सर,पैर और धड़ भी है, क्योंकि ये साइबर कैफ़े जाना जाता है, क्योंकि ये भारत के ख़िलाफ़ आतंकवादियों के रिकरूटमेंट का सेंटर है

ये तो थी पाकिस्तान कि कहानी लेकिन भारत में क़ानून के ज्ञाताओं के अनुसार जिसने ग्रांडमास्टर शिफूजी के असल वीडेओ को जानबूझकर फैलाया है वह व्यक्ति पक्का ही जेल जाएगा, और एक बात और सामने आयी है की जिस व्यक्ति ने भारत में यह वीडेओ मुज़फ़्फ़राबाद से सबसे अधिक फैलाया (फैलाने वाले का नाम गोपनीय रखा गया है) उसे जल्द ही पूरा बेनक़ाब किया जाएगा, वो भी उसके अड्डे के पते के साथ।

यह मुज़फ़र्राबाद वाला दोगला व्यक्ति भारत में राजपूतों का सबसे बड़ा दुश्मन है,और चाहता था की राजपूतों के इतिहास के बारे में बताने वाली सबसे बड़ी आवाज़ ग्रांडमास्टर शिफूजी को राजपूतों की वीरगाथा और सम्मान की बातें करने से रोका जाए। यह मुद्दा असल में एक सामान्य वीडेओ की क्लिप से बहुत बड़ा है, असल में  इंटर्नेट पर राजपूतों के बारे में सबसे अच्छा,बुलंद बोलने वाली आवाज़ ग्रांडमास्टर शिफूजी की है। यह पूरा षड्यंत्र असल में राजपूतों और राजपूतों के बाक़ी विरोधियों को आपस में भिड़ाने और असल ज़मीनी मुद्दों से भटकाने की सुनियोजित संरचना और एक नापाक साज़िश थी। यह बात इतने दावे के साथ इसलिए  कही जा सकती है क्योंकि पाकिस्तान ने यही हरकत और तरीक़ा बंगाल,मज़्ज़फ़रनगर, दिल्ली,बैंगलोर,महाराष्ट्र में दंगों के पहले और भारत के कई अन्य राज्यों में भी अपनाया था। इन सभी में एक बात सामान्य (COMMON) है कि इन सभी दंगों में फैलाए गए उन्माद और भड़काऊ वीडेओ क्लिप्स और वट्स एप फैलाने वालों के साथ हमेशा एक नाम जुड़ा है, और वो है “पेशावर पाकिस्तान वाला यही के॰जी॰एन साइबर कैफ़े”सूत्रों के अनुसार, सभी उच्च स्तरीय समबंधित विभागों के पास यह पूरी जानकारी आधिकारिक तरीक़े से पहुँचायी जा रही है, और यह भी जानकारी मिली है कि ग्रांडमास्टर शिफूजी के वकीलों द्वारा समबंधित IT ऐक्ट, साइबर क्राइम और अंतर्रष्ट्रिय क़ानून के सेक्शंस भी खंगाले जा रहे हैं। अब २००० करोड़ का मान हानि का मुकदमा चलेगा उन लोगों पर जिन्होंने जानबूझकर राजपूत भाइयों और बहनों को इंटेरनेट पर भड़काया और सभी आदरणीय राजपूत संगठनों को देश हित के कार्य से हटाकर राजपूतों के शुभचिंतक(मास्टर शिफूजी) के विरोध करने के लिए गुमराह किया, और ऐसा करके राजपूतों को ही गुमराह और अपमानित भी किया। ग्रांडमास्टर शिफूजी  के क़रीबी मित्र के अनुसार सप्रीम कोर्ट के वरिस्ठ वक़ील ग्रांडमास्टर शिफूजी का ये २००० करोड़ की मानहानि का केस और पाकिस्तान के ख़िलाफ़ इंटर्नैशनल कोर्टस में भी लड़ेंगे

क्या है ग्रांडमास्टर शिफूजी के दोगलिस्तान वाले वीडेओ के वाइरल होने के बाद विवाद, कौन कर रहा गुमराह ? क्या है पूरा मामला, विवाद और सच्चाई?

दिनांक २८ जून को Youtube पर मिशन प्रहार ९९९ चेनल पर एक नया विडीओ https://www.youtube.com/watch?v=GPioOyv4gGcपोस्ट किया गया, जिसमें कि ग्रांडमास्टर शिफूजी ने अपने देश में रह रहे, देश को भीतर से खोखला कर रहे लोगों को बहुत अच्छे तरीक़े से लताड़ा है।

जब “कट्टर राष्ट्रभक्त ग्रूप”  नामक फ़ैक्ट चेकर फ़्रीलैन्स डिजिटल अनालिसिस संस्था ने पूरा डिजिटल रीसर्च किया, तो ये सामने आया की इस वीडेओ में सीधे अक्षरों में  उन लोगों पर निशान साधा है, जो लोगों को हिंदू-मुस्लिम या जात-पात में बाँटते हैं। जिस पर बग़ैर सोचे समझे बवाल मचाया गया। और एक रणनीति के तहत कुछ अपने आपको युवाओं के ह्रदय शिरोमणि बताने वाले, पुलिस को नंगा करके आग लगाने की बात करने वाले ऐसे १-२ अवतरित महानुभावों के द्वारा। जबकि “ग्रांडमास्टर शिफूजी  के आफ़िशल स्टेट्मेंट, जिसमें  बाक़ायदा राजपूत भाइयों और वीर योद्धाओं के सम्मान की भी बात और पूरे मुद्दे पर विवरण दिया  जा चुका था, तो फिर क्यों बग़ैर सर पैर का मुद्दा बनाया गया?

निंदनीय और चौकाने वाली करतूत ये थी कि १-२ युवाओं ने (जो लोकल पत्रकार सूत्रों के अनुसार अभी शायद देह व्यापार ,बलात्कार के बाद एक ७ वर्ष की बच्ची की हत्या के आरोपों के बाद शायद ज़मानत पर जेल से आए हैं, ) उन्होंने ग्रांडमास्टर शिफूजी की माँ, बहन, बेटी के सार्वजनिक बलात्कार की धमकी दी है, और ग्रांडमास्टर शिफूजी का तलवार से सर काटने की बात कही है।

(क्या आप ऐसे लोगों का समर्थन करेंगे  ?

सोचिए ये वही ग्रांडमास्टर शिफूजी हैं जिन्होंने हम सभी की ४० लाख बहन-बेटियों को फ़्री में गाँव-गाँव जाकर आत्म रक्षा सिखायी है पिछले २२ वर्षों से उनके मिशन प्रहार के माध्यम से ?

हमने कम से कम  ४० बार वीडेओ सुना और उस वीडेओ को दोगलों के ख़िलाफ़ पाया, ना की किसी भी “राजपूत भाई बहन, योद्धा या किसी राजा और उनके पूतों के ख़िलाफ़”।

कौन है असल में ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज?  क्या है ग्रांड मास्टर शिफूजी का इतिहास ?

(background)? Who is Grandmaster Shifuji? What is the history and family background of Grandmaster Shifuji?

जन्म-  २३ मार्च, १९७३, स्थान- गुरदासपुर, पंजाब।

परिवार-  विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार और घनिष्ट मित्रों के अनुसार मास्टर शिफूजी के परिवार का पूरा इतिहास और परिचय-

“परदादा”-  ११ भाई थे पंजाब के  २ सिक्ख लड़ाकों की रियासतों के राजा थे।

छोटे परदादा मुग़लों के ख़िलाफ़ राजपूतों के  साथ सिखों की सेना के प्रमुख थे, और बाक़ी सभी दादा भी योद्धा लड़ाके ही थे।

“नाना”-  चंद्र शेखर आज़ाद, “दादा”-  ठाकुर सचेंद्र मान सिंह

(ये दोनों  ककोरि कांड के मुख्य अभियुक्त, अंग्रेज़ों के  देखते ही गोली मारने के आदेश थे )

नाना और दादा दोनों भारत की आज़ादी में समर्पित हुए और अपना सर्वोच्च बलिदान दिया।

“पिता”-  रूद्र भान सिंह भारद्वाज , “माँ” –  नितम्बरा देवी जूदेव सिंह भारद्वाज

(पिता एक महान घातक पहलवान थे , जिनके चेले बाद में बड़े-बड़े अंतरराष्ट्रीय कोच बने और आज उनके शिष्य बड़े-बड़े पदों और सम्मानजनक स्थानों पर हैं, वे रक्षा मंत्रालय की एक गन फ़ैक्टरी में कार्यरत पद से रेटायअर हुए।

माता जी ने आजीवन लगभग ६० वर्षों तक ग़रीब और अनाथ बच्चों का पालन पोषण और पढ़ायी का दाइत्व निः शुल्क निभाया। और लगभग २२ गाँव में उन्हें पूजा जाता है।

“भाई- बहन” –  विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार और घनिष्ट मित्रों के अनुसार ग्रांडमास्टर शिफूजी के

६ भाई हैं ( ५ भाई भारत के लिए शहीद  हुए, सभी उच्च स्तर पर सम्मानित भी हैं )

२ भाई राजपूत रेजिमेंट में थे, २ स्पेशल फ़ॉर्सेज़, १ सिख रेजिमेंट)

बड़े भाई-  मेजर जेनरल एस के सिंह भारद्वाज हैं ,

बड़ी बहन-  रितम्बरा ठाकुर , जीजा –  ठाकुर राघवेंद्र नारायण सिंह,

(जो शायद बड़े अधिकारी हैं राजपूत रेजिमेंट  में ),

बहन-  कामाख्या सिंह जूधेव (वरिष्ठ वक़ील ) जीजा –  ठाकुर नितिन संग्राम सिंह जूधेव (जेलर हैं )
“पत्नी”- स्वर्णिम आरती तिवारी शौर्य भारद्वाज

(४ कम्पनियों की मैनेजिंग डिरेक्टर, स्थान-  मुंबई,  चंडीगढ़, न्यू यॉर्क,  झेरूसलेम इज़्रेल)

बच्चे- ग्रांड मास्टर शिफूजी के ४ बच्चे हैं, २ बेटियाँ २ बेटे ,

अतिक्षा/दीक्षा तिवारी शौर्य भारद्वाज २८ वर्ष , वीरभान प्रताप शौर्य भारद्वाज २६ वर्ष,

महाकाल प्रताप सिंह भारद्वाज २२ वर्ष, सतचंडी शौर्य भारद्वाज १९ वर्ष।

सम्पत्ति-  यूनाइटेड किंनगड़्म के एक आर्टिकल के अनुसार, ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज बहुत बड़े प्रभावशाली परिवार से हैं, और मास्टर शिफूजी की वर्तमान सम्पत्ति (Master Shifuji’s  net worth ) 

मास्टर शिफूजी की वर्तमान सम्पत्ति (Master Shifuji’s  net worth ) लगभग १९००-२००० करोड़ के आस-पास की है।

Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System .

क्या था ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज को फ़र्ज़ी फ़ौजी और फ़्रॉड बताने वाले २०१६ का विवाद?

दुनिया के बड़े-बड़े प्रभावशाली न्यूज़ पॉर्टल्ज़ ने इस पर २०से ४० पन्ने के ख़ुलासे सन २०१८-१९ में किए, और ये बताया की शिफूजी को फ़र्ज़ी फ़्रॉड बताने वाली कोंट्रोवरसी एक पूरी साज़िश और गहन षड्यंत्र थी  देशभक्त  ग्रांडमास्टर शिफूजी के खिलाफ। रक्षा मंत्रालय के १३ पन्नों के RTI के जवाब से भी यही सामने आया है कि ग्रांडमास्टर शिफूजी फ़र्ज़ी फ़्रॉड नहीं है बल्कि असल में एक कमांडोस मेंटॉर हैं वो भी निःशुल्क अपनी सेवयें २२ वर्षों से दे रहे हैं, उनके ख़िलाफ़ यह एक बड़ा सुनियोजित षड्यंत्र था  । पूरी जानकारी के लिए ये News Top का मार्च १९ का ६ पेज का आर्डिकल है, जो बताता है कि कैसे ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज को फ़र्ज़ी फ़ौजी और फ़ेक , फ़्रॉड कहने वाली गैंग के सदस्य ख़ुद संदिग्ध निकले और शिफूजी पर आरोप लगाने वाले व्यक्ति पर ख़ुद ही सेना के मिलिटेरी इंटेलिजेन्स ने पत्र लिखकर एक किसी संगीन मामले में प्रतिबंधित करवाया है, क्योंकि, जिन्होंने ग्रांड मास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ शिकायत की थी वो ख़ुद ही शायद किसी भारत राष्ट्र विरोधी क्रिया कलापों में संदिग्ध होने के शक और शंका पर निकले। यह है पूरा आर्टिकल https://newstop.news/pr/रक्षा-मंत्रालय-ने-ख़ारिज/ Click here-  March 19, 2021 टाईटल-  रक्षा मंत्रालय ने ख़ारिज किए मास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ लगाए गए सभी संगीन आरोप आर॰टी॰आई॰ के १३ पन्नों के जवाब के माध्यम से हुआ ख़ुलासा ।  URL –https://newstop.news/pr/रक्षा-मंत्रालय-ने-ख़ारिज/

Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System .

क्या है ग्रांडमास्टर शिफूजी के दोगलिस्तान वाले वीडेओ के वाइरल होने के बाद विवाद,

कौन कर रहा गुमराह ?  क्या है पूरा मामला, विवाद और सच्चाई?

जैसा कि हम सभी को पता है कि ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज अपने बेबाक़ तरीक़े से बात करने के लिए जाने जाते हैं, और अपने इसी निडर,बेबाक़  शैली के कारण ही बहुत प्रसिद्ध हैं। ग्रांडमास्टर शिफूजी के विचार देश हित में ही सदैव होते हैं और काफ़ी सुदृढ़ और ऊँचे होते हैं। हाल ही में दिनांक २८ जून को Youtube  पर मिशन प्रहार ९९९ चेनल पर एक नया विडीओ पोस्ट किया गया, जिसमें कि ग्रांडमास्टर शिफूजी ने अपने देश में रह रहे, और  देश को भीतर से खोखला कर रहे लोगों को बहुत अच्छे तरीक़े से लताड़ा है। यह है वीडेओ का लिंक –https://www.youtube.com/watch?v=GPioOyv4gGc  २८ जून २०२१ का।

ग्रांडमास्टर शिफूजी ने भारत के अंदर दोगले लोग मतलब जो धोखेबाज़ है, भारत की माटी से दागा करते आए हैं, उन्हें और उनके आकाओं को बहुत ढंग से इस वीडेओ में लताड़ा है।यदि आप इस यूटूब के कमेंट्स पढ़े तो ९८-९९% (98-99%) प्रतिक्रियाएँ बहुत सकारात्मक और राष्ट्र प्रेम से सम्बंधित हैं। परंतु इस मिनट सेकंड के इस वीडेओ में से किसी ने १७ सेकंड की एक क्लिप को रीएडिट” किया और उसे सभी सोशल मीडिया पर वाइरल करना शुरू किया, और कल शाम आते-आते कुछ अति उत्साहित उत्तेजित लोगों ने  ग्रांडमास्टर शिफूजी के पूरे जीवन की मेहनत मतलब उनका मूल उद्देश्य मिलकर रहो, अफ़वाहों पर बग़ैर जानकारी के भरोसा मत करो के पाठ का सत्यानास कर के रख दिया।

जब कट्टर राष्ट्रभक्त ग्रूप”  नामक फ़ैक्ट चेकर फ़्रीलैन्स डिजिटल एनालिसिस संस्था ने पूरा डिजिटल रीसर्च किया, तो ये सामने आया की इस वीडेओ में सीधा-सीधा,साफ़-साफ़, अक्षरों में सीधे उन लोगों पर निशान साधा है, जो लोगों को हिंदू-मुस्लिम में बाँटते हैं, राजनैतिक दलों  का सेवक बोलते हैं, या अंधभक्त कहकर बदनाम करने लगते हैं, और जिन्हें भारत की हर अच्छी बात से समस्या है, ऐसे लोगों को इस वीडेओ में लताड़ा गया है। और इस पूरे ५ मिनट के वीडेओ में कहीं पर भी “राजपूत” शब्द का प्रयोग नहीं किया गया है, जिस पर बग़ैर सोचे समझे बबाल मचाया गया। और एक रन्नीति के तहत कुछ अपने आपको भगवान बताने वाले, युवाओं के ह्रदय शिरोमणि बताने वाले, पुलिस को नंगा करके आग लगाने की बात करने वाले ऐसे १-२ अवतरित महानुभावों के द्वारा  ग्रांडमास्टर शिफूजी  के अफ़िशल स्टेट्मेंट जिसमें पूरी बात क्लीर करी गयी उनके वेरिफ़ायड अकाउंट से बाक़ायदा राजपूत भाइयों और वीर योद्धाओं के सम्मान के साथ दी गयी सूचना देने के बाद भी क्यों यह पूरा बग़ैर सर पैर का मुद्दा बनाया गया?

निंदनीय और चोहंकाने वाली करतूत ये थी की यहाँ तक की १-२ युवाओं ने (जो लोकल पत्रकार सूत्रों के अनुसार अभी सनदेह व्यापार ,बलात्कार के बाद एक ७ वर्ष की बच्ची की हत्या के आरोपों के बाद शायद ज़मानत पर जेल से आए हैं, ) उन्होंने ग्रांडमास्टर शिफूजी की माँ, बहन, बेटी के सार्वजनिक बलात्कार की धमकी दी है, और ग्रांडमास्टर शिफूजी का तलवार से सर काटने की बात कही है। (क्या आप ऐसे लोगों का समर्थन करेंगे  ?  सोचिए ये वही ग्रांडमास्टर शिफूजी हैं जिन्होंने हम सभी की ४० लाख बहन बेटियों को  फ़्री में गाँव-गाँव जाकर आत्म रक्षा सिखायी है पिछले २२ वर्षों से उनके मिशन प्रहार के माध्यम से ?

क्या है असल मुद्दा वो समझिए?  १ मिनट १५ सेकंड से लेकर आगे तक ग्रांडमास्टर शिफूजी ने क्या कहा है यहाँ है ट्रैन्स्क्रिप्ट एक एक शब्द-

ग्रांडमास्टर शिफूजी ने वीडेओ में ये कहा है-

“इस देश में सबसे ज़्यादा समस्या उन लोगों को है जिन हरामखोरों ने इस देश के लिए कुछ नहीं किया” न उनके बाप दादाओं ने कुछ किया, नहीं किया है, इस देश को बेचा है, तो चूँकि इनके बाप दादाओं ने देश को बेचा है, तो ये हरामखोर भी आज भी वही करेंगे , ऐसे लोगों से बच कर रहिएगा ये लोग दोगले हैं, क्यों दोगले हैं? “ये वो लोग हैं जिसका “राज”  होता है ये उसके “पूत” बन जाते हैं, समझ में आ गया “जिसका भी राज”  होता है ये उसके ये “पूत” बन जाएँगे ”  सबसे ख़तरनाक वो लोग होते हैं साहब, जो माटी की बुराई करते हैं। कहीं आप ऐसों के साथ उठते बैठते तो नहीं? सोचिएगा ज़रूर? तो चोर को इज़्ज़त और कुत्ते को शुद्ध घी हज़म नहीं होता””

हमने काम से काम ४० बार वीडेओ सुना और उस वीडेओ को दोगलों के ख़िलाफ़ पाया, ना की किसी भी “राजपूत भाई बहन, योद्धा या राजा के ख़िलाफ़”।

“कट्टर राष्ट्रभक्त ग्रूप”  की पूरी रीसर्च टीम के अनुसार ये एक बहुत बड़ा प्रयास था उन लोगों का, जो चाहते थे की इस बग़ैर सर पैर की बात का ग़लत मतलब फैलाना और लोगों को भड़काना और उकसाना, इसीलिए इतनी तेज़ी से सभी तैयार ही थे कोई मुद्दा बनाने और FakeNews फैलाने के लिए, लेकिन सत्य बहुत ताक़तवर होता है, और सामने आ ही गया,  ग्रांडमास्टर शिफूजी  के प्रति यदि कोई भी शंका, किसी के भी मन में होगी तो हम आशा करते हैं,  इस लेख के बाद आप अपना निर्णय समझदारी से ले पाएँगे।

ग्रांडमास्टर शिफूजी  के बारे में किसने क्या कहा? ठाकुर सुरेन्द्र सिंह राजपूत जी ने यह समझा और कहा-

मैं सुरेन्द्र सिंह एक पत्रकार के साथ-साथ कट्टर राजपूत भी हूँ, मूलतः मेवाड़ से हूँ और वर्तमान में दिल्ली के चाणक्यपुरी क्षेत्र में रहता हूँ, मेरे परिवार के २ सदस्य भारतीय सेना में कार्यरत हैं। जब मैंने वो १७ सेकंड की एडिटेड क्लिप देखी, तो मुझे सबसे पहले अचंभा हुआ, क्योंकि मैं ख़ुद पिछले १२-१३ वर्षों से ग्रांडमास्टर शिफूजी के विचारों को सुनता हूँ , और यहाँ तक की अपने बेटे और भतीजों को भी सुनाता हूँ, हाँ  ,मैं उनकी गाली वाले एक वीडेओ से सहमत नहीं था, लेकिन वो मात्र एक ही था which was an outburst after the Uri Attack in India and is justified against the cowardly act of Pakistan ऊरी हमले के बाद, वो भी आतंकवादियों के ख़िलाफ़, परंतु परिवार के साथ नहीं सुना जा सकता है इसीलिए। लेकिन ग्रांडमास्टर शिफूजी  की सभी को मिलाकर रखने वाली बात, सभी देशहित के मुद्दों पर बेवाकि से रखने का तरीक़ा, हिंदू-मुस्लिम एकता की बात, समस्याओं के निदान का पूरा खाँचा और उसके साथ हर वीडेओ में भारत के वीर सपूतों की गाथाओं का वर्णन specially हमारे बहुत से महान राजपूत वीरों पर उनके लगभग ५० से अधिक वीडेओ होंगे, मैं एक राजपूत के नाते और एक हिंदुस्तानी के नाते विशेषकर वो जब जब शिफूजी मास्टर हमारे महाराणा प्रताप जी की बात करते हैं, और किसी भी ऐसे योद्धा की बात करते हैं, तो इतने सालों से शिफूजी मेरा भी राजपूत ख़ून खौला देते हैं,वो भी बार बार ।।।।।।।।। मैंने ख़ुद पर्सनली जयपुर airport पर देखा है, और मुझे इतना तो मालूम था की जो व्यक्ति राजस्थान की माटी को एरपोर्ट पर उतरकर चूमता है, और राजस्थान की माटी को, हल्दी घाटी की माटी को अपने माथे पर सबके सामने बड़े गर्व से मुंबई जैसे शहर में उस माटी को सबको दिखाकर लगाता है, वो ग्रांडमास्टर शिफूजी कभी हमारी योद्धा क़ौम के बारे में ऐसा नहीं कह सकता, लेकिन उस १७ सेकंड की क्लिप ने एक सेकंड के लिए मुझमें भी शंका पैदा की थी, लेकिन मात्र एक सेकंड के लिए, और जब इस पर पूरा अध्यन  किय,  तो उसमें “राजपूत” शब्द जो की अलग-अलग जगह पर अलग तरीक़े से कहे गए हैं, वो  असली ५ मिनट ९ सेकंड के वीडेओ में से उठकर उसे ग़लत जगह जोड़ा गया था, which clearly means that it was a pre planned propaganda against grandmaster Shifuji, the editing seems to be done by a  pro, which means there are people and money is involved in this entire fake propaganda against Shifuji” और मात्र उस १७ सेकंड की क्लिप को जानबूझकर आगे forward बढ़ाया  जा रहा था। ये वो लोग हैं शायद, जो जानते हैं कि हमारे कुछ साथी बग़ैर अपनी बुद्धि का प्रयोग करे अपने मोबाइल पर सीधे औत प्रोत महाप्रपोत हो जाएँगे और बोरा जाएँगे। लेकिन इस १७ सेकंड के फ़र्ज़ी वीडेओ का पर्दा तुरंत उठ जाता है, जैसे ही आप पूरा वीडेओ देखते हैं, वहीं ग्रांडमास्टर शिफूजी और हमारी एकता अखंडता के ख़िलाफ़ वाला ये षड्यंत्र ध्वस्त हो जाता है। वीडेओ में  साफ़ साफ़ डोनो शब्द अलग भाव में और अलग अर्थ में कहे गए हैं। सीधा-सीधा अगर समझें तो इसका मतलब हुआ –  “ये वो लोग हैं जिसका “राज” (राज का मतलब जिन मुग़लों अंग्रेज़ों की सरकार,सत्ता,ताक़त,पावर ) होता है ये उसके “पूत”(पूत का का मतलब सगे,चापलूस, ख़बरि, क़रीबी, चहेते) बन जाते हैं, समझ में आ गया “जिसका भी राज (सत्ता) ”  होता है ये उसके ये “पूत” (क़रीबी) बन जाएँगे ”  ना की इसका मतलब और कुछ हुआ। तो इसमें झूट क्या है, ये तो हम सब जानते हैं, लेकिन हिम्मत नहीं कर पाते कभी की भी किसी ऐसे बड़े माफ़िया के ख़िलाफ़ जैसे ग्रांडमास्टर शिफूजी  आवाज़ उठाते हैं, चाहे वो एजुकेशन माफ़िया हो या फिर धर्म के नाम पर आपस में लड़ाने वाला माफ़िया। मैं बिलकुल समर्थन करता हूँ, ग्रांडमास्टर शिफूजी  शौर्य भारद्वाज जी  की इस मुहिम का, जो उन्होंने दोगलों के ख़िलाफ़ चलायी है। जो लोग भी आपको अच्छे से जानते हैं वो आपकी  इस विचारधारा के साथ है, मास्टर शिफूजी साहब रही बात बुरा मानने वालों की तो वो अगर १% भी समझदार होंगे, और असल के राजपूत की ही औलाद होंगे तो आपको नहीं खोना चाहेंगे, क्योंकि आप हमेशा हमारे राजपूतों के इतिहास को बेबाक़ी से दुनिया के सामने रखते हैं। Thanks for being there to unite us and mentor our youth of the nation in a right direction of patriotism and fitness. Jai Bhawani, Jai Hind. From, ठाकुर सुरेन्द्र मान सिंह 

क्या ग्रांडमास्टर शिफूजी ने सफ़ाई दी, माफ़ी माँगी?

ग्रांडमास्टर शिफूजी ने अपने एक सिक्यरिटी PSO शेख़ वसीम, उसे यह उत्तर दिया था पर्सनल चैट पर, जो की किसी भी व्यक्ति को मदद करेगा ये समझने में की ग्रांडमास्टर शिफूजी  का क्या पक्ष है, और असल में ग्रांडमास्टर शिफूजी की क्या सोच है राजपूतों के बारे में-

ग्रांडमास्टर शिफूजी द्वारा दिया गया उत्तर –  As Forwarded__ जय हिंद पहलवान, सब ठीक हैं घर में? सबको हमारा राम-राम कहना। तुम्हारे सवाल का जवाब साधा सा है –  हम जब-जब अफ़वाओं में फँसकर आपस में हिंदुस्तान के भीतर ही आपस में लड़ेंगे इसका ही फ़ायदा दुश्मन देश और देश के भीतर के दुश्मन उठाते थे, और आज भी उठाएँगे!मेरा सपना अपने राष्ट्र “भारत माँ”  के सभी जात-पात के देश प्रेमियों को इखट्टे करने का है! और कुछ नहीं! ना कभी रहेगा ।  हमें इसलिए इन सब लोगों के comments का फ़र्क़ नहीं पड़ता, क्योंकि हमने कुछ ग़लत नहीं कहा! हमने दोगलों के ख़िलाफ़ कहा है, न की किसी अपने देश के किसी भी जात के किसी व्यक्ति के लिए, किन्ही विशेष लोगों ने दो शब्द अलग-अलग अर्थ के जोड़कर अपना अजेंडा एडिटेड विडीओ चलाया है, उनको बधाइयाँ मिलेंगी आज उनके आकाओं से, क्योंकि वो फिरसे युवाओं को बरगलाने में शायद सफल हूये हैं!  मुझे सब कुछ मालूम है, जो भी लोग मेरे ख़िलाफ़ ये कर रहे हैं! सभी अपने हि छोटे भाई हैं और अपने ही घर के हैं,  बस गुमराह किये गये हैं! अगर हम इनको अपना नहीं समझते तो अभी तक हमने इन्हें वीडेओ में या फ़ोन करके सीधे जवाब दे दिया होता! लेकिन क्यों ? मैंने शायद इस देश में सबसे पहले भारत के राजपूतों का इतिहास इंटर्नेट पर बताया था! और मेरे राजपूतों की वीर गाथा के कम से कम दर्जनों विडीओ होंगे कार्यक्रमों के, जहां हमने छाती ठोककर अपने गौरवशाली राजपूताना इतिहास और शौर्य के बारे में हज़ारों की भीड़ में खुले चुनौती के साथ कहा है! हाँ मैं दुखी हूँ , इस बात के लिए की – क्या इतनी आसानी से युवाओं को बहकाया जा सकता है मात्र कुछ सेकंड में युवा अपना पूरा समझ और संतुलन खो सकते हैं? ये आश्चर्यजनक है मेरे लिए भी  । रही बात माफ़ी की तो, माफ़ी वो माँगते हैं जो ग़लत काम करते हैं!  मैंने जो कहा- की भारत में समस्या उनसे हैं जो दोगले हैं, और ये वो हैं जो की जिसका राज (पावर में मतलब मुग़ल और अंग्रेज) होता था उसके पूत मतलब उनके लिए उनके तरफ़ से हमारे महान योद्धाओं और क्रांतिकारियों को मरवाने वाले उनके सगे पूत बनकर वतन से ग़द्दारी करते थे! और मैं इस पर अडिग हूँ! रही बात मेरा राजपूतों से सम्बंध तो वो मुझे किसी को साबित करने की ज़रूरत नहीं। तुम्हें मालूम ही है, हमारे खुद के वकील, ड्राइवर, परिवार के सिक्यरिटी वाले PSOs ,हमारे घनिष्ठ यार भाई, सब फाड़ू दिलेर राजपूत हैं और भरा पड़ा है अपने सभी रिश्ते राजपूत भाइयों और बहनों से! और जिन्हें ग़लतफ़हमी है की हम किसी एक जात के हैं, तो वो बिलकुल ग़लत हैं । मैं मात्र एक भारतीय हूँ इतना मेरा परिचय काफ़ी था, है और हमेशा मेरे लिए काफ़ी रहेगा।तुम्हें  पता  ही  है  हमारे  परिवार के  कितने सदस्य फ़ौज की राजपूत रेजिमेंट में थे और हैं , और सेना मेडल, शौर्य चक्र VSM,AVSM जैसे सम्मानों से सम्मानित हैं!  में भी बहुत अलग तरीक़े से ग़ुस्से वाला जवाब दे सकता था लेकिन क्यों दें? कोई कुछ भी कह रहा है, वो भी अपने हैं कोई दुश्मन थोड़ी हैं पाकिस्तानी होते तो बताते उनको ,आतंकवादी होते तो उनको ढंग से बताते, ये सब अपने ही देश के युवा हैं, किसी के ग़लत अफ़वाह और बहकावे में आ गए हैं, देखते हैं वो उनकी समझदारी है! और वो क्या कहते हैं हमारे बारे में, उससे बुरा हमें तब लगता जब हमने असल में कुछ कहा होता, है की नहीं उस्ताद? हाँ लेकिन, अगर मैंने वीर राजपूत समाज के बारे में कुछ कहा होता, तो तुम जानते हो ,मुझमें इतनी सिखलायी है और कूबत है ,कि मैं अपनी गलती मानता! मैं वही व्यक्ति हूँ जिसने माँ रानी पद्मावती के अपमान पर बड़े बड़ों की ऐसी तैसी की थी। दोषियों के ख़िलाफ़ सिर्फ़ विडीओ नहीं बनाए क्या क्या किया क़ानून के हिसाब से वो तुम सब जानते हो, याद है वो अनंतनाग कश्मीर में जब उस लौंडे ने प्रथवि राज चौहान सब के बारे में कहा था कुछ ग़लत, हम लोगों ने क्या किया था, याद है ना, तो फिर आज क्यों हम कुछ ऐसा कहेंगे अचानक से, मैं इंक़लाब के अलावा कोई नशा नहीं करता तुम्हें मालूम है, और पूरे होश में बात कही है! हम सच में प्रार्थना करते हैं की अपने देश का युवा असल मुद्दों के ख़िलाफ़ बेरोज़गारी,महिला सुरक्षा, शिक्षा में धांधली, स्कूल,कॉलेज निर्माण, शहीदों को सम्मान, किताबों में गौरवशाली इतिहास, बलात्कारियों की फाँसी की सज़ा ऐसे असल मुद्दों पर क्यों नहीं इतनी उत्तेजना दिखाते ! आप जैसे समझदार लोगों की बहुत आवश्यता है हम सभी को मिलकर युवाओं को भड़काने से बचाना होगा! नुक़सान असल में इन बच्चों का ही है। हमें क्या फ़र्क़ पड़ेगा! अगर ग़लत कहा होता तो फ़र्क़ पड़ता! बस एक प्रार्थना है भगवती से कि सभी युवा एक बार ऐसे ही किसी देश हित के मुद्दे पर इखट्टे हों! मुझे एक बात का पूरा भरोसा है की कोई भी एक असल देशभक्त, जो हमें सालों से जानता है, वो अपनी बुद्धि का प्रयोग करेगा, जो हमें अच्छे से जानता है, वो एक बार पूरा विडीओ देखेगा, और बस सब समझ जाएगा की वीडेओ दोगलों के ख़िलाफ़ था ना कि किसी अपने के,  बाक़ी हर व्यक्ति को अधिकार है अपनी समझ का उपयोग करने का! अगर चाहे तो, और हन आपके संदेश के लिये धन्यवाद! वन्दे मातरम्! भारत माता की जय , PKMKB,CKMKB – आपका –  मास्टर शीफूजी 

निष्कर्ष-  हम इस नतीजे पर पहुँचे हैं कि वीडेओ में ऐसी कोई बात कही नहीं कही गई जिस पर इतनी विपरीत प्रतिक्रिया की जाए, असल में ये अति उत्साहित बुद्धिजीवियों की समझ की बहुत बड़ी विडंबना है कि बग़ैर समझे, बग़ैर जाने ही ये बस कूद पड़ते हैं।

Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System .

किसी के बहकावे में ना आएँ अपनी बुद्दी लगाएँ। विडंबना ये हैं, की समाज को किस तरह बुद्धिमान बनाया जाए, क्योंकि सिर्फ़ सुनकर की प्रतिक्रिया देना बहुत ही ज़्यादा हानिकारक सिद्ध हो सकता है , आपके लिए भी और समाज के लिए भी ।यही तो ग्रांडमास्टर  शिफूजी शौर्य भारद्वाज इतने वर्षों से इंटर्नेट पर सबको सिखाने की कोशिश करते रहते हैं कि भड़कावे में मत आओ ।युवाओं को अपनी बुद्धि का प्रयोग हमेशा करना चाहिए ना कि इस तरह गुमराह होकर ग़लत बात को नहीं फैलाना चाहिए ।यदि सभी का मूल हित चाहते हैं, तो हमें सामाजिक अराजकता फैलाने वालों से हमेशा सतर्क रहने की आवश्यकता है। राजपूत वीरों की गाथा हम सब ने सुनी है, और सब से ज़्यादा इन वीरों की गाथा को हम युवाओं तक पहुँचाने वाले ग्रांडमास्टर शिफूजी ही हैं  तो फिर वह सब कैसे एक बार में भूल दिया जा सकता है।  एक बहुत पुरानी पंक्ति है, की यदि आप मूर्ख को उपदेश करेंगे तो वह शांत नहीं होगा बल्कि क्रोधित हो जाएगा।
सबसे ज़्यादा दुख की बात ये है की लोग ग़लत बातें जल्दी सीख जाते हैं, पर सही बात सिखाने में बहुत वक़्त लगाते हैं। हर बात पर समाज के नाम पर भड़का दीजिए और अपनी रोटियां सेकने लगिए, तो ग़लत कौन हुआ जो बहका रहा है, या जो बहक रहे हैं ?

ग्रांडमास्टर शिफूजी ने हर बार, बार बार अपने विडीओज़ में, पब्लिक स्पीचेज़ में कहा है कि हमें अपने देश की अखंडता को बनाए रखने के लिए कहना होगा की मैं एक भारतीय हूँ। ग्रांडमास्टर शिफूजी ने हमेशा ही सभी को मिलने की बात की है, हमेशा हिंसु-मुस्लिम-सिख-ईसाई सबको मिलकर रहने की बात सिखाते हैं, लेकिन अगर फिर भी कोई नहीं समझता तो रहिए सब अपने हाल पर, और लड़ते रहिए आपस में, जिसका फ़ायदा आपके दुश्मन देश उठते रहेंगे। एक बात की अंत में में तारीफ़ करूँगा की ग्रांडमास्टर शिफूजी ने इस मुद्दे पर सभी को अपना मानते हुए शांति से शज रूप से समझाया है।

क्यों भौकाल मचाया इस वीडेओ ने और इस फ़र्ज़ी क्लिप मुद्दे पर क्या किया ग्रांडमास्टर शिफूजी ने?

ग्रांडमास्टर शिफूजी का यह रीसेंट वीडेओ इंटर्नेट के टोटल सभी मधयमों के अनुसार कम से कम २६ करोड़ लोगों ने यह वीडेओ “दोगलों भारत छोड़ो देखा और लगभग २२ करोड़ ने इसे ReShare साझा किया। लगभग ९९% लोगों ने ग्रांडमास्टर शिफूजी की बात पर करोड़ों लोगों ने सहमति दी है, और लिखा है कि किसी में तो दम है भारत के दोगलों के ख़िलाफ़ मोर्चा खोलने की और जो १% लोग हैं जो १७ सेकंड की क्लिप लेकर बैठे हैं, उन्हें भी शिफूजी ने अपने ही लोग बताया और कोई प्रतिक्रिया नहीं दी बल्कि आशा जतायी की वो सभी अपने ही हैं कोई दुश्मन नहीं।  इसी लिए यह कहना उचित होगा की वीडेओ ने भौकाल मचाया। और ग्रांडमास्टर शिफूजी ने बड़प्पन दिखाया किसी के ख़िलाफ़ ना बोलकर और हमेशा की तरह कहा की सबको मिलकर देश के लिए काम करने चाहिए न कि आपस में लड़कर।

Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System .

ग्रांडमास्टर शिफूजी की फ़र्ज़ी वीडेओ क्लिप बनाने वाले और फैलाने वालों का पर्दाफ़ाश ।पाकिस्तान के चिरकुट हैकर्ज़ का था ये ना-पाक काम । 

“इंदीयन कट्टर देशभक्त साइबर एक्स्पर्ट्स की टीम के अनुसार १७ सेकंड और मिनट  के फ़र्ज़ी वीडेओ ३० जून को सबसे पहले पाकिस्तान के IP ऐड्रेस 27.54.120.7356.76  पेशावर शहर के मुजावर फ़र्नीचर बाज़ार के वालीहा मटन शाप के ऊपर वाले के॰जी॰एन साइबर कैफ़े”   से आधीरात २:१७ मिनट पर और उसके बाद पाकिस्तान के मरदान,मिंगोरा  जिलों से उसी समय लगभग ७० हज़ार  ग्रूप्स में बल्क में इंटर्नेट और वट्स एप पर अधिकतर राजपूतों को बहकाने के लिए, री-एडिट करके, उसके साथ ख़ुद को राजपूत ग्रूप का आदमीं बताते हुए, ग्रांडमास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ एक विवादित और भड़काओ संदेश बनाकर उसे इन ग्रूप्स में पाकिस्तान से Share किया गया। सबसे ज़्यादा उत्तर प्रदेश, राजस्थान, जम्मू, हरियाणा जैसे राजपूत बाहुल्य राज्यों में फैलाया इसे सुनियोजित तरीक़े से फैलाया गया थाइस  पूरी साज़िश के पीछे पाकिस्तान की एजेन्सी ISI का हाथ नहीं बल्कि पूरा सर,पैर और धड़ भी है, क्योंकि ये साइबर कैफ़े अक्सर बहुत इज़्ज़त कमाता है भारत के ख़िलाफ़ आतंकवादियों के रिकरूटमेंट का सेंटर होने के नाम से।ये तो थी पाकिस्तान कि कहानी लेकिन भारत में क़ानून के ज्ञाताओं के अनुसार जिसने ग्रांडमास्टर शिफूजी के असल वीडेओ को जानबूझकर फैलाया है वह व्यक्ति पक्का ही जेल जाएगा, और एक बात और सामने आयी है की जिस व्यक्ति ने भारत में यह वीडेओ मुज़फ़्फ़राबाद से सबसे अधिक फैलाया गया था (फैलाने वाले का नाम गोपनीय रखा गया है) उसे जल्द ही पूरा बेनक़ाब किया जाएगा, वो भी उसके अड्डे के पाते के साथ। यह मुज़फ़र्राबाद वाला दोगला व्यक्ति भारत में राजपूतों का सबसे बड़ा दुश्मन है और चाहता था की राजपूतों के इतिहास के बारे में बताने वाली सबसे बड़ी आवाज़ ग्रांडमास्टर शिफूजी को राजपूतों की वीरगाथा और सम्मान की बातें करने से रोका जाए। यह मुद्दा असल में एक सामान्य वीडेओ की क्लिप से बहुत बड़ा है, असल में  इंटर्नेट पर राजपूतों के बारे में सबसे अच्छा,बुलंद बोलने वाली आवाज़ ग्रांडमास्टर शिफूजी की है। यह पूरा षड्यंत्र असल में राजपूतों और राजपूतों के बाक़ी विरोधियों को आपस में भिड़ाने और असल ज़मीनी मुद्दों से भटकाने की सुनियोजित संरचना और एक नापाक साज़िश थी। यह बात इतने दावे के साथ इसलिए  कही जा सकती है क्योंकि पाकिस्तान ने यही हरकत और तरीक़ा बंगाल में दंगों से पहले मज़्ज़फ़रनगर दंगों  से पहले, दिल्ली में दंगों से पहले, बैंगलोर दंगों से पहले, महाराष्ट्र में दंगों के पहले और भारत के कई अन्य राज्यों में भी अपनाया था। इन सभी में एक बात सामान्य (COMMON) है कि इन सभी दंगों में फैलाए गए उन्माद और भड़काऊ वीडेओ क्लिप्स और वट्स एप फैलाने वालों के साथ हमेशा एक ही नाम जुड़ा है और वो है “पेशावर शहर के मुजावर फ़र्नीचर बाज़ार के वालीहा मटन शाप के ऊपर वाले के॰जी॰एन साइबर कैफ़े”।सूत्रों के अनुसार, सभी उच्च स्तरीय समबंधित विभागों के पास यह पूरी जानकारी आधिकारिक तरीक़े से पहुँचायी जा रही है, और यह भी जानकारी मिली है कि ग्रांडमास्टर शिफूजी के वकीलों द्वारा समबंधित IT ऐक्ट, साइबर क्राइम और अंतर्रष्ट्रिय क़ानून के सेक्शंस भी खंगाले जा रहे हैं। अब २००० करोड़ का मान हानि का मुकदमा चलेगा उन लोगों पर जिन्होंने जानबूझकर राजपूत भाइयों और बहनों को इंटेरनेट पर भड़काया और सभी आदरणीय राजपूत संगठनों को देश हित के कार्य से हटाकर अपने ही शुभचिंतकों के विरोध करने के लिए गुमराह किया और ऐसा करके उन्हें बेवक़ूफ़ बनाया और अपमानित भी किया। ग्रांडमास्टर शिफूजी  के क़रीबी मित्र के अनुसार यह पूरा मुद्दा बहुत गम्भीरता से लिया जा रहा है, इस बार सप्रीम कोर्ट के १ बहुत वरिस्ठ वक़ील ग्रांडमास्टर शिफूजी  का ये २००० करोड़ की मानहानि का केस और पाकिस्तान के ख़िलाफ़ इंटर्नैशनल कोर्टस में भी लड़ेंगे

ये अवश्य पढ़े-

क्यों इतने प्रभावशाली हैं ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज? Why is Grandmaster Shifuji such an important person and famous personality?

ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज मुख्य रूप से अपने साहसी राष्ट्रवादी, स्पष्ट प्रकल्पित अराजनैतिक टिप्पणियों के लिए हमेशा ख़बरों में रहते हैं। उन्हें अपने वीडियो और जन-सामूहिक भाषणों के माध्यम से सच्ची देशभक्ति फैलाने के लिए जाना जाता है।

ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज के बारे में एक आर्टिकल में लिख पाना सम्भव नहीं हो पायेंगे परंतु कुछ बिन्दू हैं-

१-  ग्रांडमास्टर शिफूजी भारत के एकलौते (the  only  indian citizen)व्यक्ति हैं जिन्होंने आतंकवाद के ख़िलाफ़ सबसे बड़ी डिग्री और शिक्षा, काउंटर टेररिज़म और काउंटेर इन्सर्जेन्सी को दुनिया के सबसे ख़तरनाक और आधुनिक हथियारों की सर्वोच्च जानकारी के साथ “इज़्रेल”  Israel  देश से ग्रैजूएशन सर्टिफ़िकेशन कोर्से और पी॰एच॰डी॰ सर्टिफ़िकेशन कोर्से करने का सम्मान भारत के लिए हांसिल किया ।

२-  ग्रांडमास्टर शिफूजी ने १९९९ से लेकर २०१९ तक ४० लाख महिलाओं को मिशन प्रहार में निः शुक्ल आत्म रक्षा अपने ख़र्च पर देश के सभी राज्यों में जाकर सिखायी।

३-  ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज लगभग २१ वर्षों से सेनाओं को, भारतीय सेना, पैरमिलिटेरी फ़ॉर्सेज़, स्पेशल फ़ॉर्सेज़ को लगभग २०-२२ वर्षों से निः शुल्क मिट्टी सिस्टम की ट्रेनिंग और मेंटॉरिंग देते आए हैं और कभी भी ट्रेनिंग सम्बंधित दस्ताबेज इंटेरनेट पर नहीं डाले।

४-  ग्रांडमास्टर शिफूजी बहुत चुस्त दुरुस्त व्यक्ति हैं और भारत के युवाओं को एक जुट होकर,मिलकर रहने और अफ़वाहों से बचने की बात सिखाते हैं।

५-  ग्रांडमास्टर शिफूजी वैसे तो भारत की स्पेशल फ़ॉर्सेज़ और भारतीय सेना को, कमांडोज को Free of cost ट्रेनिंग प्रदान करते हैं , लेकिन असल में (पूरी जाँच पड़ताल के बाद  पूरे दाइत्व के साथ से ये बात लिखी जा रही है )  ग्रांडमास्टर शिफूजी  अपनी life coaching का असल में ३० मिनट का ४५ लाख रुपए और जी॰एस॰टी॰ अलग से लेते हैं। और अचम्भे  की बात ये है की बड़े बड़े फ़ेमस लोग (famous personalities) उनके इस एक सेशन के लिए महीनों का इंटेज़ार भी करने तैयार हैं। यह बात इज़्रेल के अमिताभ बच्चन माने जाने वाले एक महान कलाकार, प्रडूसर और दुनिया की सबसे फ़ेमस वेबसिरीज़ FAUDA फ़ौदा के प्रमुख किरदार निभाने वाले ईचिक कोहन ने अपने अमेरिका के समाचार फ़ॉक्स ४२ के इंटर्व्यू में कही है। यह इज़्रेली लेजेंड भी ग्रांडमास्टर शिफूजी को अपमा Life coach मानने में नहीं झिझकता। लेकिन यह भी सत्य है की आज तक ग्रांडमास्टर शिफूजी ने किसी भी फ़ौज की ट्रेनिंग का एक रुपए नहीं लिया। मेरे ख़ुद के बड़े भाई कर्नल हैं उन्होंने ये बात पूरी जानकारी हांसिल करके ही बतायी है, और यह भी बताया है कि ग्रांडमास्टर शिफूजी असल में २०-२२ वर्षों से मिट्टी सिस्टम का सेवाएँ फ़्री में अपने ख़र्चे से आकर अपना क़ीमती समय निकालकर प्रदान कर रहे हैं।

६-  ग्रांडमास्टर शिफूजी एकलौते ऐसे भारतीय हैं जिन्हें दुनिया में सबसे काम उम्र का आतंकवाद के ख़िलाफ़ लड़ी जानी वाली आधुनिक हथियारों के साथ वाली काउंटर टेररिज़म लड़ायी के क्षेत्र में मिट्टी सिस्टम के आविष्कारक के रूप में सम्मान किया जाता है।

७-  ग्रांडमास्टर शिफूजी  भारत के एक ऐसे व्यक्ति हैं जो कि किसी राजनीतिक दल नहीं बल्कि भारत की एकता अखंडता और भाईचारे की बात सिर्फ़ करते नहीं बल्कि कर के भी दिखते हैं।

८-  ग्रांडमास्टर शिफूजी बेबाक़ी और निडरता से सच का साथ देते हैं और सिर्फ़ बातें नहीं करते वीडेओ में निदान बताते हैं और करते भी हैं, उदाहरण के तौर पर उनकी महामहिम राष्ट्रपति को सीधे पत्र लिख कर बलात्कारियों को सार्वजनिक फाँसी के क़ानून की माँग थी, जिस पर राष्ट्रपति जी का उत्तर भी आया था प्रेज़िडेंट सेक्रेट्रीएट की तरफ़ से उसे उत्तर के साथ आगे सम्बंधित लोगों को भेजा गया प्रक्रिया के लिए।

९-  ग्रांडमास्टर शिफूजी  ने कई बार सीधे ऐक्शन किया है उसमें से बहुत ही भरोसे के सूत्रों के अनुसार (अधिवक्ता रणधीर सिंह के अनुसार )

एक सबसे बड़ा उदाहरण है ग्रांडमास्टर शिफूजी के द्वारा इखट्टे ८ लोगों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर और मुक़दमे के लिए जाना, किनके विरुद्ध जिन्होंने माँ रानी पद्मावती जी के सम्मान के विरुद्ध फ़िल्म का अनावरण किया था जो कि बहुत पैसे वाले और ताक़तवर लोग हैं, आज भी किसी को बग़ैर हो हल्ला करे ग्रांडमास्टर शिफूजी  माँ रानी पद्मावती जी के सम्मान के लिए अपने पैसे से इस राजपूताना सम्मान के लिए लड़ रहे हैं बग़ैर फ़ोटो वीडेओ और प्रचार के, ऐसे अनेकों उदाहरण हैं जहाँ ग्रांडमास्टर शिफूजी ने बग़ैर बताए लाखों रुपए शहीदों के परिवारों और बहुत कई जरूरतमंदों को दिए हैं और आज तक उसकी चर्चा तक नहीं की न फ़ोटो, न वीडेओ , न कोई पुरस्कार की चाहत यही वो कारण हैं जिसके लिए करोड़ों युवा लड़के-लड़कियाँ आज ग्रांडमास्टर शिफूजी  को अपना गुरु, आदर्श, पित्र तुल्य मानते हैं।

Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System .

ग्रांडमास्टर शिफूजी की फ़र्ज़ी वीडेओ क्लिप बनाने वाले और फैलाने वालों पर जाँच शुरू?

भरोसे के साइबर एक्स्पर्ट्स और सूत्रों के अनुसार यह १७ सेकंड का फ़र्ज़ी वीडेओ ३० जून को सबसे पहले पाकिस्तान ऑक्युपायड कश्मीर (POK) के मुज़फ़्फ़राबाद से बल्क में इंटर्नेट और वट्स आप सभी रज्जपूतों को बहकाने के लिए, रे एडिट करके, उसके साथ भड़काओ संदेश बनाकर ज़्यादा से ज़्यादा उत्तर प्रदेश, राजस्थान, जम्मू, हरियाणा जैसे राजपूत बाहुल्य राज्यों में फैलाया गया था, वो भी पाकिस्तान से, और क़ानून के ज्ञाताओं के अनुसार जिसने ग्रांडमास्टर शिफूजी के असल वीडेओ से छेड़छाड़ करी है वह व्यक्ति पक्का ही जेल जाएगा, समबंधित विभाग के पास जानकारी आधिकारिक तरीक़े से पहुँचायी जा रही है, और यह भी जानकारी मिली है कि ग्रांडमास्टर शिफूजी के द्वारा IPC ४९९, ५०० के तहत मानहानि का मामला दर्ज होगा  और समबंधित IT ऐक्ट के सेक्शंस भी खंगाले जा रहे हैं। २००० करोड़ का माँ हानि का मुकदमा चलेगा अब। ग्रांडमास्टर शिफूजी  के क़रीबी मित्र के अनुसार यह बहुत गम्भीरता से लिया जा रहा है, इस बार सप्रीम कोर्ट के १ बहुत वरिस्ठ वक़ील ग्रांडमास्टर शिफूजी  का ये २००० करोड़ की मानहानि का केस लड़ेंगे ।

A Press Release by “Staunch Indian Patriots Organisation”

Address- 7/22, Koramangala, Bannerghatta Road, Bangalore South, Pin code- 586123.

टैग्ज़-

#ग्रांडमास्टरशिफूजी #शिफूजी #शिफूजीशौर्यभारद्वाज #राजपूत समाज सम्मान करते हैं ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज #मिशनप्रहार #भारतमाताकीजय #GrandmasterShifuji #Shifuji #MasterShifujiRespectsRajpoot #Rajput #Rajpoot #MasterShifuji #mittiSystem #Grandmaster

 

फ़ोटो गेलरी- 

Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System .  Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System .   Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System . Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System . Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System .   

Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System . Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System . Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System . Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System . Legendary ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज सर, राजपूत ,राजपूतों का सम्मान करने वाला वीडेओ पर जवाब, मिट्टी सिस्टम, शिफूजी, मिशन प्रहार, कमांडोस मेंटॉर, शिफूजी वीडेओ, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Sir ,Commandos Mentor, Mitti System, Commandos Mentor, World's Best Commandos Mentor, Mission Prahar, Master Shifuji reply on the confusion of Rajpoot word, Mitti System .

 

ग्रांडमास्टर शिफूजी की फ़र्ज़ी वीडेओ क्लिप बनाने वाले और फैलाने वालों का पर्दाफ़ाश ।पाकिस्तान के चिरकुट हैकर्ज़ का था ये ना-पाक काम । 

“इंदीयन कट्टर देशभक्त साइबर एक्स्पर्ट्स की टीम के अनुसार १७ सेकंड और मिनट  के फ़र्ज़ी वीडेओ ३० जून को सबसे पहले पाकिस्तान के IP ऐड्रेस 27.54.120.7356.76  पेशावर शहर के मुजावर फ़र्नीचर बाज़ार के वालीहा मटन शाप के ऊपर वाले के॰जी॰एन साइबर कैफ़े”   से आधीरात २:१७ मिनट पर और उसके बाद पाकिस्तान के मरदान,मिंगोरा  जिलों से उसी समय लगभग ७० हज़ार  ग्रूप्स में बल्क में इंटर्नेट और वट्स एप पर अधिकतर राजपूतों को बहकाने के लिए, री-एडिट करके, उसके साथ ख़ुद को राजपूत ग्रूप का आदमीं बताते हुए, ग्रांडमास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ एक विवादित और भड़काओ संदेश बनाकर उसे इन ग्रूप्स में पाकिस्तान से Share किया गया। सबसे ज़्यादा उत्तर प्रदेश, राजस्थान, जम्मू, हरियाणा जैसे राजपूत बाहुल्य राज्यों में फैलाया इसे सुनियोजित तरीक़े से फैलाया गया थाइस  पूरी साज़िश के पीछे पाकिस्तान की एजेन्सी ISI का हाथ नहीं बल्कि पूरा सर,पैर और धड़ भी है, क्योंकि ये साइबर कैफ़े अक्सर बहुत इज़्ज़त कमाता है भारत के ख़िलाफ़ आतंकवादियों के रिकरूटमेंट का सेंटर होने के नाम से।ये तो थी पाकिस्तान कि कहानी लेकिन भारत में क़ानून के ज्ञाताओं के अनुसार जिसने ग्रांडमास्टर शिफूजी के असल वीडेओ को जानबूझकर फैलाया है वह व्यक्ति पक्का ही जेल जाएगा, और एक बात और सामने आयी है की जिस व्यक्ति ने भारत में यह वीडेओ मुज़फ़्फ़राबाद से सबसे अधिक फैलाया गया था (फैलाने वाले का नाम गोपनीय रखा गया है) उसे जल्द ही पूरा बेनक़ाब किया जाएगा, वो भी उसके अड्डे के पाते के साथ। यह मुज़फ़र्राबाद वाला दोगला व्यक्ति भारत में राजपूतों का सबसे बड़ा दुश्मन है और चाहता था की राजपूतों के इतिहास के बारे में बताने वाली सबसे बड़ी आवाज़ ग्रांडमास्टर शिफूजी को राजपूतों की वीरगाथा और सम्मान की बातें करने से रोका जाए। यह मुद्दा असल में एक सामान्य वीडेओ की क्लिप से बहुत बड़ा है, असल में  इंटर्नेट पर राजपूतों के बारे में सबसे अच्छा,बुलंद बोलने वाली आवाज़ ग्रांडमास्टर शिफूजी की है। यह पूरा षड्यंत्र असल में राजपूतों और राजपूतों के बाक़ी विरोधियों को आपस में भिड़ाने और असल ज़मीनी मुद्दों से भटकाने की सुनियोजित संरचना और एक नापाक साज़िश थी। यह बात इतने दावे के साथ इसलिए  कही जा सकती है क्योंकि पाकिस्तान ने यही हरकत और तरीक़ा बंगाल में दंगों से पहले मज़्ज़फ़रनगर दंगों  से पहले, दिल्ली में दंगों से पहले, बैंगलोर दंगों से पहले, महाराष्ट्र में दंगों के पहले और भारत के कई अन्य राज्यों में भी अपनाया था। इन सभी में एक बात सामान्य (COMMON) है कि इन सभी दंगों में फैलाए गए उन्माद और भड़काऊ वीडेओ क्लिप्स और वट्स एप फैलाने वालों के साथ हमेशा एक ही नाम जुड़ा है और वो है “पेशावर शहर के मुजावर फ़र्नीचर बाज़ार के वालीहा मटन शाप के ऊपर वाले के॰जी॰एन साइबर कैफ़े”।सूत्रों के अनुसार, सभी उच्च स्तरीय समबंधित विभागों के पास यह पूरी जानकारी आधिकारिक तरीक़े से पहुँचायी जा रही है, और यह भी जानकारी मिली है कि ग्रांडमास्टर शिफूजी के वकीलों द्वारा समबंधित IT ऐक्ट, साइबर क्राइम और अंतर्रष्ट्रिय क़ानून के सेक्शंस भी खंगाले जा रहे हैं। अब २००० करोड़ का मान हानि का मुकदमा चलेगा उन लोगों पर जिन्होंने जानबूझकर राजपूत भाइयों और बहनों को इंटेरनेट पर भड़काया और सभी आदरणीय राजपूत संगठनों को देश हित के कार्य से हटाकर अपने ही शुभचिंतकों के विरोध करने के लिए गुमराह किया और ऐसा करके उन्हें बेवक़ूफ़ बनाया और अपमानित भी किया। ग्रांडमास्टर शिफूजी  के क़रीबी मित्र के अनुसार यह पूरा मुद्दा बहुत गम्भीरता से लिया जा रहा है, इस बार सप्रीम कोर्ट के १ बहुत वरिस्ठ वक़ील ग्रांडमास्टर शिफूजी  का ये २००० करोड़ की मानहानि का केस और पाकिस्तान के ख़िलाफ़ इंटर्नैशनल कोर्टस में भी लड़ेंगे

#ग्रांडमास्टरशिफूजी #शिफूजी #शिफूजीशौर्यभारद्वाज #राजपूत समाज सम्मान करते हैं ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज #मिशनप्रहार #भारतमाताकीजय #GrandmasterShifuji #Shifuji #MasterShifujiRespectsRajpoot #Rajput #Rajpoot #MasterShifuji #mittiSystem #Grandmaster

 

NOTE- Please accept apologies for Hindi words and Grammar mistakes because We translated this Article from an English Article and the software sometimes make mistakes in words and Hindi grammar. 

 

 

 

 

 

4 thoughts on “ग्रांडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज के भारत के दोगलों के ख़िलाफ़ बनाए वीडेओ ने मचाया इंटर्नेट पर भौकाल।इंटर्नेट पर लगभग २६ करोड़ ने देखा, २२ करोड़ ने साझा किया।वीडेओ की एक नक़ली क्लिप से कुछ हुए गुमराह।कुछ राजपूत हुए गुमराह।पाकिस्तान की साज़िश का पर्दाफ़ाश। वीडेओ से छेड़छाड़ करने वाला जाएगा जेल।२००० करोड़ की मानहानि का मामला दर्ज।

  1. रक्षा मंत्रालय ने ख़ारिज किए मास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ लगाए गए सभी संगीन आरोप । आर॰टी॰आई॰ के १३ पन्नों के जवाब के माध्यम से हुआ ख़ुलासा ।
    by News Top March 19, 2021

    रक्षा मंत्रालय ने ख़ारिज किए मास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ लगाए गए सभी संगीन आरोप । आर॰टी॰आई॰ के १३ पन्नों के जवाब के माध्यम से हुआ ख़ुलासा ।

    सूत्रों के अनुसार ग्रांड मास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज ने झूठे और निराधार आरोप लगाने वाले सभी लोगों और ७-८ बड़े-बड़े मीडिया ग्रूप्स पर किया मानहानि का दावा ,आइए विस्तार से आरोपों का विश्लेषण करें।

    पिछले 22 सालों को शामिल करने वाला संपूर्ण खुलासा।“ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज का खुलासा, सेना में होने का नाटक करने वाला धोखेबाज़ ढोंगी या महान देशभक्त? विस्तृत डिजिटल कानूनी विश्लेषण, और मास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज के ख़िलाफ़ की गयी मुंबई पुलिस F.I.R./शिकायत की वर्तमान स्थिति (शिकायत संख्या: 69954)। रक्षा मंत्रालय, भारतीय गृह मंत्रालय में की गयीं दर्ज़नों शिकायतें?

    नई दिल्ली, भारत (दिनांक- 18 मार्च २०२१) ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज मुख्य रूप से अपने साहसी राष्ट्रवादी, स्पष्ट प्रकल्पित अराजनैतिक टिप्पणियों के लिए हमेशा ख़बरों में रहते हैं। उन्हें अपने वीडियो और जन-सामूहिक भाषणों के माध्यम से सच्ची देशभक्ति फैलाने के लिए जाना जाता है। दुनिया भर के आतंकवाद से मुक़ाबले, जवाबी-कार्यवाही के विशेषज्ञ और दिग्गज उनका बहुत आदर-सम्मान करते हैं, लेकिन भारत में उन्हें क्यों बदनाम किया जा रहा है। साल 2021 के पहले दिन से उनकी न्यूज़ कवरेज और विवाद फिर से बाज़ार में वापस आ गए हैं। इसीलिए, यह हमारी टीम के लिए शोध, अवलोकन, और विस्तृत विश्लेषण का मामला बन गया। ग्रैंडमास्टर शिफूजी को कभी-कभी ऑनलाइन हिंसा के साथ निराधार रूप से, बहुत सारी कटु टिप्पणियों के साथ लगातार वायरल, ट्रोल किया जा रहा है, और उनसे नफ़रत की जा रही है।

    ग्रांड मास्टर शिफूजीशौर्य भारद्वाज को भारतीय सेना के _डिविज़न के जनरल साहब और अधिकारियों द्वारा सम्मानित किया गया निः शुल्क मिट्टी सिस्टम प्रशिक्षण के लिए स्पष्ट किया जा सकता है (आप स्मृति चिन्ह के नीचे पढ़ने के लिए ज़ूम कर सकते हैं)

    क्या ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज ने कभी भी सेना का अधिकारी, सशस्त्र बलों का कर्मचारी, विशेष बलों का कमांडो, वॉर हीरो, पूर्व सैनिक या ऐसा कुछ भी होने का दावा किया है? पिछले 22 सालों के रिकॉर्ड के सबसे विस्तृत शोध, विश्लेषण और डिजिटल परीक्षण से इस बात की पुष्टि होती है कि ग्रैंडमास्टर शिफूजी ने कभी ऐसा नहीं कहा कि वह सेना के अधिकारी हैं, और न ही उन्होंने कभी भी सशस्त्र बलों या विशेष बलों में किसी भी पद पर नियुक्त होने या कोई भी पद रखने का दावा किया है। उन्हें नकली, फ़र्ज़ी और धोखेबाज़ साबित करने का यह झूठा आरोप स्थापित करने के लिए एक भी ऑनलाइन और ऑफलाइन साक्ष्य मौजूद नहीं है। उनके फॉलोवरों और आलोचकों ने एक समान रूप से उन्हें सेना का अधिकारी समझा है। हालाँकि, उन्होंने हमेशा यह कहा कि उन्होंने अपनी मिट्टी सिस्टम (MITTI system)की प्रशिक्षण सेवाएं एलीट स्पेशल फ़ॉर्सेज़ के विशेष बलों, भारतीय सशस्त्र बलों, अर्धसैनिक बलों, राज्य पुलिस और प्रवर्तन संस्थाओं को प्रदान की हैं। उन्होंने फ्रीलांस कमांडोज मेंटर, फ्रीलांस कमांडो ट्रेनर के रूप में २२ वर्षों के अपने लंबे करियर के दौरान पूरी तरह से “मुफ़्त” प्रशिक्षण सेवाएं प्रदान की हैं, कई विशेषीकृत सैन्य इकाइयों को प्रशिक्षित किया है, और सशस्त्र बलों और राज्य-स्तरीय बलों दोनों के लिए अनुकूलित निकट सशस्त्र मुठभेड़ (Armed close Quarter Battle )और आवश्यकता पर आधारित रणनीतिक प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

    क्या शिफूजी एक ढोंगी, धोखेबाज़ हैं? जैसा कि वायरल न्यूज़ में बताया गया है?

    सवाल– क्या ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज ढोंगी, फ़र्ज़ी धोखेबाज़ हैं या सचमुच कमांडोज मेंटॉर हैं?

    क्राइम ब्रैंचेज़ की क्लोज़र रिपोर्ट के अनुसार आरोप बनाम सच्चाई –

    उनके ऊपर नियमित रूप से मरून रंग की टोपी, मार्कोस बैज और बलिदान के प्रतीक के साथ सेना की पोशाक पहनने का आरोप लगता है, प्रशंसक और आलोचक एक समान रूप से उन्हें अक्सर सेना के अधिकारी के रूप में संबोधित करते हैं, विशेष सैन्य बलों और सशस्त्र बलों के लिए उनके फ्रीलांस मेंटर और फ्रीलांस कमांडो प्रशिक्षक होने के प्रमाणपत्रों पर सवाल उठाया गया है। कुछ साम्यवादी और वामपंथी नेतृत्व वाले मीडिया हाउस और कुछ संदिग्ध राष्ट्र-विरोधी तत्व उनकी देशभक्ति पर सवाल उठाते हैं और यहाँ तक कि उनकी इतनी हिम्मत भी हो जाती है कि वो उनसे युवा सशक्तिकरण , महिला सशक्तिकरण, और राष्ट्र के लिए उनके योगदान के बारे में सवाल करते हैं।

    Mitti%20System%20Grandmaster%20Shifuji%20Shaurya%20Bhardwaj%20Commandos%20Mentor%20,%20Inventor%20Mitti%20System%20,%20Mission%20Prahar%20Founder%20
    ग्रैंडमास्टर शिफूजी की तथाकथित फर्जी सेना की वर्दी का मुद्दा क्या है?

    मास्टर शिफूजी अप्रत्यक्ष रूप से सशस्त्र बलों के लिए काम करने वाले किसी भी अन्य निजी सामरिक युद्ध पेशेवर की तरह कपड़े पहनते हैं, अनुशासन और अच्छी सेहत रखते हैं, और उन्हें गवर्न्मंट यूनफ़ॉर्म कोड और फैशन के बीचे के फ़र्क़ की ख़ास समझ है; एक फ्रीलांस कमांडो प्रशिक्षक होने के नाते, ये उनके पेशे का हिस्सा हैं। उनपर मरून टोपी पहनने का, मार्कोस और बलिदान के प्रतीक लगाने का आरोप है। टोपी और प्रतीक रैंक और राष्ट्र के प्रति आदर्श सेवा की स्वीकृति के समानार्थी हैं। साथ ही, सभी भारतीय कानूनों के अनुसार, फ़्रीलैन्स प्रशिक्षण सत्र के दौरान किसी मेंटर, प्रशिक्षक द्वारा कॉम्बैट , स्टाइलिश चितकबरे रंग के पैंट और किसी भी रंग की गोल चपटी टोपी पहनने पर कानूनी रूप से कोई प्रतिबंध नहीं लगाया गया है। मास्टर शिफूजी द्वारा पहनी जाने वाली पोशाक पूरी तरह से उनकी पसंद,(customised) और व्यक्तिगत अनुशासन पर आधारित है। विस्तृत शोध के अनुसार, ग्रैंडमास्टर शिफूजी अपनी मरून टोपी पर अपने ट्रेडमार्क किये गए प्रतीक पहनते हैं, जिन्हें ट्रेडमार्क्स अधिनियम 1999 के अंतर्गत एक दशक पहले पंजीकृत किया गया था। ग्रैंडमास्टर शिफूजी का एक कॉपीराइट किया गया कपड़ों का स्टाइल है और ये सभी टैक्टिकल कपड़े उनके ख़ुद के ब्राण्ड “जय हिंद ब्रो” के कापीरायट्स हैं, कार्गो के सबसे स्टाइलिश अनुकूलित customised मरीन सील्स के पैटर्न के पेंट और क्रांतिकारियों के उभरे हुए चेहरों वाली ब्रांडेड टी-शर्ट्स को शामिल करती हैं। वो प्रीमियम मरीन पैटर्न वाले अनुकूलित बूट पहनते हैं; और उनका चश्मा “मास्टर शिफूजी के जय हिन्द ब्रो” के आरक्षित ब्रांड का होता है।

    अंतिम जांच से पता चला कि शिफूजी की मरून टोपी कुछ विशेष वर्ग के विशेष बलों की टोपी की तरह डिज़ाइन की गयी है। शिफूजी जो टोपी पहनते हैं उस पर भारतीय सशस्त्र बलों, भारतीय विशेष बलों या भारत सरकार का कोई भी प्रतीक मौजूद नहीं है। इसके अलावा, उनके ऊपर बलिदान बैज पहनने का भी आरोप लगाया गया है, यह सच नहीं है! ध्यान रखें कि शिफूजी द्वारा पहना जाने वाला बैज दुनिया के एक दूसरे हिस्से (भारत नहीं) ब्रिटिश SAS के सैन्य रैंकों और लड़ाकों के बैजों के पैटर्न से मिलता-जुलता है, और ऑनलाइन हज़ारों पॉर्टल्ज़ पर १० रुपए में सबके लिए उपलब्ध है, इस बैज को किसी प्रतिबंध के बिना किसी के भी द्वारा पहना जा सकता है। वो इसे चितकबरे टी-शर्ट पर प्रिंट करवाकर पहनते हैं जो भारतीय सशस्त्र बलों का प्रिंट नहीं है और न ही इस पर भारतीय विशेष बलों का कोई निशान मौजूद है। मास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज द्वारा पहने जाने वाले बैज पर मार्कोस बैज होने का आरोप लगाया गया था। फिर भी, उन्होंने कभी सेना, भारतीय नेवी की पूरी पोशाक नहीं पहनी या यहाँ तक कि शिफूजी जो जैकेट पहनते हैं उसपर भी महान क्रांतिकारी शहीद भगत सिंह का कटआउट स्टीकर लगा है, जो भारतीय सशस्त्र बलों का प्रोटोकॉल नहीं है। मार्कोस का बिल्ला कैसे लगाया? इस प्रश्न का उत्तर सामान्य है, मार्कोस का insignia क़ानून के अनुसार वैसा ही है जैसे कि कोई भी भारत का तिरंगा पिन पहन सकता है, उसी प्रकार इस मार्कोस बेज,निशान पर कोई भी क़ानूनी प्रतिबंध नहीं है, जब तक की इसे(यूनफ़ॉर्म)वर्दी के साथ न पेहना जाए । मास्टर शिफूजी ने मार्कोस (Marcos) के बेज (insignia) को अपने प्राइवट जैकेट पर बायीं तरफ़ लगाया था न कि किसी वर्दी पर। जिन लोगों ने मास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ इतनी बड़ी साज़िश रची, यदि वह असल में सेनाओं की वर्दी के, चिन्हों के दुरुपयोग के ख़िलाफ़ हैं तो जो स्पेशल फ़ॉर्सेज़, आर्मी कॉम्बैट त शर्ट्स, बैजेज़ लाखों की संख्या में आज ऑनलाइन और बाज़ारों में बिक रहे हैं उन पर रोक लगाने के लिए क्यों नहीं इतनी बड़ी मुहिम चलायी ?

    क्या शिफूजी राष्ट्र के लिए खतरा हैं, या फिर वो भारत के हर राष्ट्र-विरोधी और गद्दार के लिए खतरा बन गए हैं? यह विवाद दोबारा क्यों उभरकर सामने आया है?

    कुछ मीडिया हाउसों, न्यूज़ पोर्टलों के इस तरह के लेखों की वजह से?
    क्या उन्होंने जानबूझकर इस इंसान को नीचा दिखाने के लिए ऐसे लेखों के शीर्षकों को इतना आकर्षक रखा है? या उनका खुलासा करने के लिए सच में उनकी ज़रुरत थी?
    फ़ैसला करने के लिए कृपया उन्हें ध्यान से पढ़ें; उनके शीर्षक कुछ इस तरह थे i) ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज के ख़िलाफ़ F.I.R. दर्ज़। ii) सेना के मुख्यालयों द्वारा नकली सैनिक फ़र्ज़ी फ़ौजी ग्रैंडमास्टर शिफूजी की विश्वसनीयता की जांच की जाएगी। iii) मिशन साहसी, मिशन प्रहार की महिला ट्रेनिंग कैम्प का चीफ ट्रेनर शिफूजी सेना का ढोंगी है, iv) धोखेबाज़ शिफूजी ने सेना का आदमी होने का ढोंग करके भारतियों को मूर्ख बनाया v) रक्षा मंत्रालय की R.T.I. प्रतिक्रियाएं ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज का पर्दाफाश करती हैं। vi) नकली सैनिक शिफूजी ने मासूम भावुक भारतियों को उल्लू बनाया। शिफूजी ढोंगी है, फ़र्ज़ी है, नकली धोखेबाज़ सैनिक, ग्रैंडमास्टर शिफूजी धोखेबाज़ है, शिफूजी का पर्दाफाश, ग्रैंडमास्टर शिफूजी नकली सैनिक है जिसने कइयों को उल्लू बनाया है , जैसे हैशटैग और टाइटल टैग के साथ इन्हें प्रकाशित किया गया और लाखों बार फैलाया गया :-
    विश्लेषण – इन लेखों की सामग्रियां संदिग्ध हैं और पहले कानूनी विश्लेषण में एक-तरफ़ा प्रतीत होती हैं। ऊपर उल्लेखित ज़्यादातर लेख निम्नलिखित स्रोतों से ली गयी सामग्री और जानकारियां शामिल करते हैं –

    1- पहला – भारतीय नेवी के एकमात्र सिंगल R.T.I. का जवाब (भारतीय वायु सेना और भारतीय सेना से कोई जवाब नहीं)।

    विश्लेषण और चिंता का अज्ञात सत्य –

    शिकायत करने वालों ने भारतीय वायु सेना और सेना के R.T.I. जवाबों को क्यों नहीं उजागर किया?
    स्रोत बताते हैं कि ग्रैंडमास्टर शिफूजी की कानूनी टीम भारतीय नेवी के जवाब को चुनौती दे रही है क्योंकि वो प्रशिक्षण से जुड़ी जानकारी का खुलासा करते हैं, जो RTI अधिनियम 2005 के धारा 8 के अंतर्गत आती है और विशेष बलों स्पेशल फ़ॉर्सेज़ के प्रशिक्षण मॉड्यूल और हर जानकारी की गोपनीयता बनाये रखने के लिए प्रतिबंधित है।

    संदेह – क्या आवेदक को कानून के विरुद्ध जाकर जवाब दिया गया था? क्या यह जानकारी राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम, 1980 और आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम, 1923 का हिस्सा नहीं थी? क्या अदालत प्रभारी अधिकारी के ख़िलाफ़ फैसला सुनाएगी?

    R.T.I. विशेषज्ञ की राय: उस विशेष R.T.I. में भारतीय नेवी ने ग्रैंडमास्टर शिफूजी के बारे में गुमराह करने वाले आधारहीन सवालों का जवाब दिया था। 99.9% मामलों में, R.T.I. की धारा 8 के तहत आने वाले ऐसे किसी भी R.T.I. को अस्वीकार कर दिया जाता है।

    2- दूसरा – साल 2016-17 में एक लड़की और उसके दोस्त की भारतीय सेना के वरिष्ठ अधिकारियों या दिल्ली मुख्यालयों में (PRO) की गयी लिखित शिकायत के आधार पर।

    दावे का स्रोत – भारतीय न्यूज़ पोर्टल का एक लेख – तिथि – 9 मई, मंगलवार, 2017। समाचार का लेख –

    इस लड़की और उसके दोस्त ने ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज़ की थी।

    विश्लेषण और चिंता का अज्ञात सत्य –

    1. क्या भारत के हर लड़के-लड़की को इतनी जल्दी भारतीय सेना के वरिष्ठ अधिकारियों से मिलने की अनुमति मिल जाती है? अगर हाँ तो इसी विषय पर उनका साक्षात्कार लेने के लिए हमें भी उनके अपॉइंटमेंट की ज़रुरत होगी। अगर नहीं तो यह बैठक किसने आयोजित की थी और किस आधार पर इन युवाओं को इतनी अटेंशन और मंजूरी मिली थी।

    संदेह – 1- ये दोनों शिकायतकर्ता भारतीय विशेष बलों के प्रशिक्षण विवरणों और भारतीय सशस्त्र बलों के फ्रीलांस सहायता प्रदाताओं फ़्रीलैन्स प्रशिक्षकों को लेकर इतना चिंतित क्यों थे?

    2- उड़ी हमले के बाद ही प्रशिक्षण से जुड़ी इतनी छानबीन क्यों हो रही थी, ख़ासकर तब जब ग्रैंडमास्टर शिफूजी ने अपने वायरल वीडियो में गद्दारों के गैंग और वामपंथी उग्रवादियों पर निशाना साधा था।

    शिकायतकर्ताओं के बारे में अप्रकाशित अज्ञात तथ्य –

    7 मई, 2018 को सभी सात कमांड को लिखे गए सेना के इंटेलिजेंस के पत्र के आधार पर उस महिला बाइकर को अब प्रतिबंधित कर दिया गया है, यह वही महिला है जिसने २०१६-१७ मैं अलग अलग सेनाओं के विभागों में जाकर ग्रैंडमास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज करायी थी।
    जानकारी का स्रोत – 19 मई, 2018 को इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित लेख।
    लेख का शीर्षक – सेना के इंटेलिजेंस ने गुजरात की छात्रा पर चेतावनी जारी की।

    कई यूट्यूब वीडियो में ग्रैंडमास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ शिकायत करने वाले लड़के का पर्दाफाश किया गया है,
    गलत जानकारी फैलाने के लिए भी शिकायतकर्ता का खुलासा हुआ था।
    उसके ऊपर शराब पर प्रतिबंध लगाने वाले राज्य में शराब के सेवन का भी संदेह है,
    सोशल मीडिया के माध्यम से गुमराह करने की कोशिश,
    वह अपनी शिकायत के ख़िलाफ़ 2016 में ख़ुद मुंबई पुलिस द्वारा प्रदान किए किये गए क्लोज़र रपोर्ट के तथ्यों को छिपा रहा था।
    उसने कभी भी रक्षा मंत्रालय और गृह मंत्रालय से प्राप्त क्लोज़र रिपोर्ट से जुड़े तथ्यों और जवाबों के बारे में नहीं बताया।
    मुंबई पुलिस के केस बंद करने के बाद, उसने दूसरे शिकायतकर्ताओं को काम पर लगाया और मुंबई के JV मार्ग पुलिस स्टेशन में ऐसी ही नकली शिकायत दर्ज़ की।
    उसने 2016 के अक्टूबर-नवंबर में अपनी दर्ज़ की गयी शिकायत संख्या 69954 की स्थिति के बारे में कोई जानकारी नहीं दी।

    3- तीन – 13/12/2016 को उत्तर प्रदेश के एक व्यक्ति द्वारा मुंबई, महाराष्ट्र के पुलिस कमिश्नर को भेजे गए शिकायती पत्र के आधार पर।

    दावे का स्रोत – इस व्यक्ति ने 2016 के दिसंबर महीने में सोशल मीडिया पर एक शिकायती पत्र संचारित (publish & Viral)किया था।

    संदेह – 1. इस व्यक्ति ने केवल मास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ ही मुंबई पुलिस कमिश्नर को सीधे विशेष पत्र क्यों लिखा?

    2. उसने दूसरे प्रसिद्ध प्रशिक्षकों के ख़िलाफ़ कितने पत्र लिखे, जो गोपनीय प्रशिक्षण की तस्वीरें और वीडियो ऑनलाइन पोस्ट करते हैं और सशस्त्र बलों से लाखों रुपये लेते हैं; उसने कोई और चीज़ क्यों प्रसारित नहीं की?

    3. इसी व्यक्ति ने मास्टर शिफूजी के परिवार की निजता और सुरक्षा के मूलभूत अधिकार के बारे कभी कोई परवाह क्यों नहीं की?

    4. उसने ग्रैंडमास्टर शिफूजी के निवास स्थान के पते का ज़िक्र करने वाला शिकायत पत्र क्यों प्रसारित किया?

    5. केवल शिफूजी शौर्य भारद्वाज ही इस व्यक्ति के लिए राष्ट्रीय ख़तरा क्यों बने और भारत के बड़े-बड़े अपराधी और मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी नहीं?

    6. इस व्यक्ति ने कभी भी मुंबई पुलिस का जवाब और क्लोज़र रिपोर्ट क्यों नहीं शेयर की, जो ग्रैंडमास्टर शिफूजी के ऊपर विस्तृत छानबीन करने के बाद भेजी गयी थी? उसने ग्रैंडमास्टर शिफूजी को दिए गए क्लीन चिट के बारे में लोगों को सूचना क्यों नहीं दी?

    विश्लेषण और चिंता का अज्ञात सत्य और

    शिकायतकर्ता के बारे में अप्रकाशित अज्ञात तथ्य?

    ग्रांड मास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ शिकायतकर्ता व्यक्ति समाजवादी पार्टी का सदस्य है, जिसने समाजवादी पार्टी की तरफ से चुनाव लड़ा और बुरी तरह से हार गया।

    1. अपने से एक अधिकारी होने का दावा करने वाले इस व्यक्ति ने किसी N.G.O. फेडरेशन के नाम पर पत्र लिखा था। कोई (F.I.R. नहीं) की थी।

    2. सेवारत अधिकारी के रूप में पत्र लिखा था कोई आधिकारिक क्षमता पर नहीं।

    3. ग्रैंडमास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ शिकायत करने के लिए इस व्यक्ति को सेना द्वारा अधिकृत और निर्धारित नहीं किया गया था ।

    4. उसने अपने आपको N.G.O. के अध्यक्ष के रूप में बताकर एक आम नागरिक के रूप में पत्र लिखा था।

    5. महत्वपूर्ण जानकारी का उल्लेख किये बिना पत्र में उसका रैंक और नाम दिया गया था, और यह भी नहीं बताया गया था कि वो सेना से सेवामुक्त हो चुका है या अभी भी सेवारत है।

    6. कुछ विशेष कानूनों के तहत अनिवार्य होने के बावजूद, उसके नाम में Retd शब्द का कोई उल्लेख नहीं था।

    7. उसके पत्र के शीर्षक पर छपा हुआ प्रतीक, ख़ुद भारतीय राष्ट्रीय प्रतीक अधिनियम के ख़िलाफ़ है, और उसके N.G.O. का लोगो पुणे के खडकवासला में राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के प्रतीक की नक़ल है।

    8. N.G.O. की कोई पंजीकरण संख्या नहीं दी गयी है, भारतीय कानून के अनुसार जिसका उल्लेख होना अनिवार्य है।

    9. उसने यह शिकायत पत्र 13 दिसंबर, 2016 को लिखा था, लेकिन आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार, शिकायत संख्या 69954, 12/08/16 को बंद हो गयी थी (जैसा कि मुंबई पुलिस ने अपनी क्लोज़र रिपोर्ट में उल्लेख किया है)।

    इससे किसी को क्या समझना चाहिए? इस पत्र को क्यों संचारित किया गया जबकि यह बात सार्वजनिक हो चुकी थी कि शिकायत का निपटारा कर दिया गया है और इस मामले में F.I.R. नहीं हो सकती?

    10. क्या किसी ज़िम्मेदार नागरिक से ऐसे आचरण की उम्मीद की जाती है? क्या शिकायतकर्ता ने अपने राजनीतिक लाभ और फ़ेमस होने के लिए यह हथकंडा अपनाया था? हमें इस व्यक्ति का कोई सत्यापित (Verified)सोशल मीडिया अकाउंट खाता नहीं मिला। अब, उसे क्या कहा जाना चाहिए?

    11. ऐसे तथा-कथित महान जागरूक मुखबिर के लिए अंतिम बिंदु।

    अपनी शिकायत लिखने के लिए इस व्यक्ति ने अपने पूर्व-सैनिक के लेखन पेड का इस्तेमाल क्यों किया है। मान लीजिये, इस व्यक्ति के पास कोई साक्ष्य मौजूद है तो फिर जांच से पहले उसने ख़ुद को पेश क्यों नहीं किया। इस देश में, सबके पास राष्ट्र के निर्माण में सहायता प्रदान करने का अधिकार है और यह उनका उत्तरदायित्व भी है। भारतीय सशस्त्र बल किसी की निजी संपत्ति नहीं है। यह पूरे देश और इसके नागरिकों के लिए है। ग्रैंडमास्टर शिफूजी को भी उनकी सहायता करने का अधिकार है, चाहे उन्हें ऐसा करने के लिए आमंत्रित किया गया हो या चाहे वो अपनी इच्छा से ऐसा करें, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।

    इससे लोगों को क्या तकलीफ है? इससे केवल उन लोगों को समस्या है जो प्रशिक्षण की आड़ में वर्कशॉप से पैसे कमा रहे थे और अब उन्हें ख़तरा महसूस हो रहा था क्योंकि ग्रैंडमास्टर शिफूजी द्वारा इसे “मुफ़्त” प्रदान किया जा रहा था, इसलिए उन्होंने सोचा कि गलत प्रचार करके इसे कैसे रोका और प्रभावित किया जाए। चूँकि, कुछ राजनीतिक कार्यकारी और अवसरवादी इसी इंतज़ार में थे, इसलिए उनकी बदनामी करना उनके लिए सबसे अच्छी योजना थी। किसी सेना के कर्मचारी से ज़्यादा अच्छा तरीका और क्या होता। अपनी योजना पूरी करने के लिए, शुरुआत में उन्होंने सबको यह दिखाने की कोशिश की कि शिफूजी पूर्व-सेना कर्मचारी हैं और इसके बाद उन्होंने शिफूजी को ख़ुद ही नकली घोषित कर दिया और इसके लिए उनके पहनावे का फ़ायदा उठाया। मास्टर शिफूजी के करोड़ों युवा प्रशंसक हैं, और इसकी वजह से उनकी बदनामी होने में भी ज़्यादा समय नहीं लगा। किसी के पास भी इस हंगामे का कोई साक्ष्य नहीं है, लेकिन जैसा कि आप हमारे सोशल मीडिया से वाकिफ़ हैं। इसकी शुरुआत के बाद, लोगों ने इसमें हिस्सा लेना शुरू कर दिया। हालाँकि, ग्रैंडमास्टर शिफूजी ने कभी ऐसे ट्रोल्स पर ध्यान नहीं दिया। यह भी सच है कि जहाँ कहीं भी वो विज़िट के लिए जाते थे तो ये लोग उन जगहों पर कॉल करने लगते थे। जहाँ तक इन सबके लिए ग्रैंडमास्टर शिफूजी की प्रतिक्रिया की बात है, उन्होंने कभी इसपर ध्यान नहीं दिया और न लगता है कि कभी वो इसपर आगे कभी ध्यान देंगे।

    चलिए नकली और धोखेबाज़ी जैसे शब्दों का मतलब समझते हैं।

    नकली का अर्थ है – कोई ऐसी चीज़ जो शुद्ध नहीं होती; जालसाजी या ढोंग”

    जवाब – ग्रैंडमास्टर शिफूजी बिल्कुल असली फ्रीलांस कमांडो मेंटॉर प्रशिक्षक हैं और कहीं से भी नकली नहीं हैं, इस विस्तृत जांच में उनके ख़िलाफ़ किसी भी अवैध या गैरकानूनी काम का एक भी सबूत नहीं मिला है।

    धोखेबाज़ी का अर्थ है – आर्थिक या निजी लाभ के लिए ग़लत या आपराधिक छल।”

    जवाब: 2016-17 में ग्रैंडमास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ लगभग 50 शिकायतें दर्ज़ की गयी थीं और राज्य के क्राइम ब्रांच और केंद्रीय जांच एजेंसियों द्वारा की गयी पेशेवर विस्तृत पूछताछ के बाद उन सबको खारिज़ कर दिया गया है।

    सवाल – 2015-16 तक ग्रैंडमास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ कितनी शिकायतें और F.I.R. दर्ज़ की गयी थीं? वर्तमान में, मास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ शिकायतों, F.I.R. की स्थिति क्या है?

    1- अक्टूबर-दिसंबर 2016 को मुंबई पुलिस कमिश्नर से की गयी एक सीधी शिकायत –

    वर्तमान स्थिति: 12/08/2016 को बंद। शिकायतकर्ता के पास आधिकारिक जवाब भेज दिया गया था, जो उसने कभी हमारे साथ शेयर नहीं किया और हम सबको गुमराह किया।

    2- अहमदाबाद के क्राइम ब्रांच में दो शिकायतें।

    वर्तमान स्थिति: गुजरात पुलिस क्राइम ब्रांच द्वारा विस्तृत छानबीन के बाद 30 दिन के अंदर शिकायत बंद कर दी गयी थी।

    3- गृह मंत्रालय में 17 शिकायतें।

    वर्तमान स्थिति: बंद, विस्तृत जांच की गयी थी। विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार, सबसे उच्च जांच एजेंसियों ने ग्रैंडमास्टर शिफूजी की जांच की थी और उनकी प्रशंसा करते हुए एक संतोषजनक रिपोर्ट पेश की थी।

    4- रक्षा मंत्रालय में 20-25 शिकायतें।

    सभी बंद, नहीं तो 4 साल में शिफूजी को कबका गिरफ़्तार कर लिया गया होता। पड़ताल के बाद सभी शिकायतें बंद कर दी गयी थीं। उसके सभी साक्ष्य यहाँ संलग्न हैं –

    यह फ़ैसला करना आपकी समझ पर निर्भर है कि इस मामले में कौन सही है। क्या आप इन तथा-कथित न्यूज़ पोर्टलों के “खुलासा” वाले हथकंडे में विश्वास करना चाहेंगे, जो मास्टर शिफूजी के ख़िलाफ़ गुमराह करने वाले पुराने लेखों के साथ इस विवाद से पैसे कमाना चाहते हैं?

    या

    क्या आप राज्य पुलिस के क्राइम ब्रांच, रक्षा मंत्रालय ,केंद्रीय सरकार की जांच एजेंसियों और सेना की खुफिया एजेंसियों जैसी जांच एजेंसियों और प्राधिकरणों क्लोज़र पर विश्वास करना चाहेंगे?

    हमारे इस पोर्टल के सभी पत्रकार ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज की सच्चाई पर भरोसा करते हैं, जो वास्तव में Counter Terrorism जवाबी-कार्यवाही, आतंकवाद से मुक़ाबला और (Armed Urban Warfare)शहरी सशस्त्र मुठभेड़ की दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण फ्रीलांस कमांडो मेंटॉर प्रशिक्षकों में से एक हैं। स्वीकृतियों और खोज रिपोर्ट्स के अनुसार, उन्हें “विश्व का सर्वश्रेष्ठ कमांडो मेंटर” और “विश्व का सर्वश्रेष्ठ कमांडो प्रशिक्षक” माना जाता है। यहाँ तक की जनवरी में लंदन पोस्ट के प्रथम पन्ने पर आए लेख में ग्रांड मास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज को दुनिया का सबसे ख़तरनाक जीवित लेजेंड (The Deadliest Man Alive In The World) के नाम से उल्लेखित किया गया है.

    ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज मुख्य रूप से अपने साहसी राष्ट्रवादी, स्पष्ट प्रकल्पित अराजनैतिक टिप्पणियों के लिए हमेशा ख़बरों में रहते हैं। उन्हें अपने वीडियो और जन-सामूहिक भाषणों के माध्यम से सच्ची देशभक्ति फैलाने के लिए जाना जाता है। दुनिया भर के आतंकवाद से मुक़ाबले, जवाबी-कार्यवाही के विशेषज्ञ और दिग्गज उनका बहुत आदर-सम्मान करते हैं, लेकिन भारत में उन्हें क्यों बदनाम किया जा रहा है। साल 2021 के पहले दिन से उनकी न्यूज़ कवरेज और विवाद फिर से बाज़ार में वापस आ गए हैं। इसीलिए, यह हमारी टीम के लिए शोध, अवलोकन, और विस्तृत विश्लेषण का मामला बन गया। ग्रैंडमास्टर शिफूजी को कभी-कभी ऑनलाइन हिंसा के साथ निराधार रूप से, बहुत सारी कटु टिप्पणियों के साथ लगातार वायरल, ट्रोल किया जा रहा है, और उनसे नफ़रत की जा रही है।

    ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज की असली सच्चाई क्या है?

    पुलिस द्वारा सत्यापित भारतीय युवा को 5 करोड़ रोजगार-आधारित नियोजनीय कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रदान करने के लिए ग्रैंडमास्टर शिफूजी की हालिया परियोजना मिशन प्रचंड भारत शौर्य कंपनी है। उनके अन्य प्रसिद्ध मिशनों में मेरी मिट्टी, मिशन प्रचंड भारत शौर्य, मिशन अनिवार्य सैन्य प्रशिक्षण, मिशन मुज़फ़्फ़राबाद, मिशन शहादत सम्मान, मिशन जय हिंदी ब्रो, मिशन भारत मठ, मिशन वैदिक सैन्य स्कूल, और मिशन मिट्टी बूट कैंप शामिल हैं।

    https://secureservercdn.net/104.238.71.250/2f3.e77.myftpupload.com/wp-content/uploads/2021/01/4-1024×683.jpg(GRANDMASTER SHIFUJI’S REGISTERED TRADEMARKS UNDER TRADEMARK ACT 1999 OF INDIA).

    https://secureservercdn.net/104.238.71.250/2f3.e77.myftpupload.com/wp-content/uploads/2021/01/7-1024×683.jpg
    (PhD certificate of Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj, Terrorism and Counter Insurgency, Urban Armed Combat)

    ../Desktop/Screen%20Shot%202021-01-21%20at%202.25.12%20AM.png
    Proof of Claims regarding Logo Registration, Logo Trademarks of Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj.

    ) ( Image- Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj, Inventor of Mitti System, Founder- Mission Prahar, Mission Prachand Bharat, Sass9, Mission Meri Mitti, Mission Jai Hind Bro )

    Verified Profiles – http://www.Instagram.com/Shifuji_JaiHind

    TWITTER- http://Twitter.com/ShifujiJAIHIND

    Facebook – http://Facebook.com/MasterShifujiShauryaBhardwaj

  2. मिलिए दुनिया के सबसे घातक आतंकवाद रोधी प्रशिक्षण “मिट्टी सिस्टम” के आविष्कारक ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज से

    ग्रैंडमास्टर शिफूजी दुनिया के सबसे उन्नत विशिष्ट काउंटर-इंसर्जेंसी, काउंटर-टेररिज्म, सशस्त्र शहरी युद्ध प्रशिक्षण पाठ्यक्रम “मिट्टी सिस्टम” के आविष्कारक हैं, इस प्रणाली को एलीट स्पेशल फोर्सेज और स्पेशलाइज्ड ऑपरेशंस यूनिट्स के लिए सबसे आधुनिक अपरंपरागत अनुकूलन आधारित कार्यक्रम माना जाता है।

    (दिनांक- मार्च, १३,२०२१) ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज को विश्व के सर्वश्रेष्ठ कमांडोस मेंटॉर के रूप में स्वीकार किया जाता है, जो “मिट्टी सिस्टम” Mitti System के आविष्कारक हैं, मिट्टी सिस्टम Mitti System भारतीय स्वदेशी स्वनिर्धारित आतंकवाद रोधी शहरी युद्ध और आतंकवाद विरोधी प्रशिक्षण पद्धति है। मिट्टी सिस्टम Mitti System प्रणाली को दुनिया की सबसे उन्नत और सबसे आधुनिक आतंकवाद-रोधी प्रशिक्षण प्रणाली भी माना जाता है। ग्रैंडमास्टर शिफुजी शौर्य भारद्वाज के पास क़ानूनी एकाधिकार है मिट्टी सिस्टम Mitti System के ट्रेडमार्क और वर्ड मार्क का वे मिट्टी सिस्टम के वर्ड मार्क और ट्रेड मार्क के आधिकारिक मालिक हैं, जो कानूनी रूप से एकमात्र उन्हें ही दुनिया में इन Trade Marks का विशेष रूप से उपयोग करने एकाधिकार की अनुमति देता है। ये ट्रेडमार्क और वर्डमार्क ट्रेडमार्क अधिनियम 1999 के तहत लगभक एक दशक पहले से ही पंजीकृत हैं।

    ग्रैंडमास्टर शिफूजी की मिट्टी प्रणाली सिस्टम (Mitti System) पूरी तरह से “सशस्त्र बलों और भारतीय अर्धसैनिक बलों” के लिए पूर्णतः निः शुल्क (Free of Cost) प्रशिक्षण कार्यक्रम है। मास्टर शीफूजी के करोड़ों युवा अनुयायी हैं जो उन्हें अपना गुरु, उस्ताद मानते हैं, इन सभी में एक बात सामान्य (common) है कि ये ग्रांड मास्टर शिफूजी की तरह ही भारतीय सशस्त्र बलों और आराजनैतिक देशभक्ति में विश्वास करने वाले हैं । ये सभी करोड़ों युवा ग्रांडमास्टर शीफूजी के पागलपन की हद से भी अधिक राष्ट्रप्रेम ,अखंड देशभक्ति , और उनके बेबाक़ बोल्ड रवैये, घटक एक्सट्रीम फिटनेस के कारण भी उनका बहुत सम्मान करते हैं. और मास्टर शिफूजी के सम्मान का एक कारण यह भी है कि वह कभी भी अपने व्यक्तिगत ब्रांडिंग उद्देश्य के लिए उनकी फ्रीलांस कमांडो ट्रेनिंग, कमांडोस मेंटॉरिंग सेवाओं से संबंधित कुछ भी जानकारी कभी भी इंटर्नेट पर साझा नहीं करते हैं। निस्संदेह, ग्रैंडमास्टर शिफूजी दुनिया के टॉप 2 लिविंग लीजेंड्स में से एक है, अनेकों अंतरराष्ट्रीय मीडिया पॉर्टल्ज़ रिपोर्ट्स के अनुसार ग्रांड मास्टर शिफूजी को दुनिया के सबसे उच्चतम स्तर के प्रोफेशनल कमांडोज मेंटॉर माना गया है और हाल के ही “लंदन पोस्ट” के Tending लेख में उन्हें आतंकवाद के ख़िलाफ़ “The Deadliest Man Alive in The World” मतलब दुनिया का सबसे ख़तरनाक धुरंधर जीवित व्यक्ति माना गया है. वहीं “द न्यू यॉर्क टाइम्ज़ डेली” के पहले पन्ने के लेख के अनुसार ग्रांड मास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज को वर्ल्ड’स बेस्ट कमांडोज मेंटॉर विश्व का सर्वश्रेष्ठ कमांडोस का गुरु उल्लेखित किया गया है. इनके अलावा मास्टर शिफूजी के अभिन्न मित्र को इसी स्तर का विशेषज्ञ माना गया है जो की कैलिबर 3 के संस्थापक और सीईओ हैं, इजरायल के एक सेवारत कर्नल हैं कर्नल शेरोन गैट । वह वर्तमान में एक IDF Veteran वयोवृद्ध और इजरायली विशेष बलों और IDF के वरिष्ठ मुख्य प्रशिक्षक हैं।

    (छवि- उत्तराखंड पुलिस महिला कमांडो फ़ोर्स , मिट्टी सिस्टम सिस्टम प्रणाली Mitti System प्रशिक्षण के दौरान स्थान- देहरादून पुलिस लाइन,उत्तराखंड, उत्तराखंड की पहली महिला कमांडो फोर्स कमांडोस अपने उस्ताद जी ग्रांडमास्टर शिफूजी के साथ और छवि में अनिरुद्ध प्रताप सिंह और मेजर रूबीना कौर कीर भी हैं)

    ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज, जिसे पौराणिक गुरुजी,उस्ताद जी, मास्टर जी के रूप में जाना जाता है, “द वर्ल्ड्स बेस्ट कमांडोज मेंटर” के रूप में स्वीकार किए जाते हैं, एलीट कमांडो मेंटरिंग और एक्सट्रीम फिटनेस मिट्टी Mitti Boot Camp बूट कैंप इंडस्ट्री में अग्रणी हैं। ग्रैंडमास्टर शिफूजी एकमात्र विदेशी नागरिक और पहले भारतीय नागरिक हैं जिन्होंने सबसे घातक आतंकवाद-रोधी, आतंकवाद-रोधी और पूरी तरह सुसज्जित घातक शहरी लड़ाई (lethal Urban warfare )में ISRAEL से स्नातक प्रमाणपत्र और पीएचडी प्रमाणपत्र पूरा किया है। वह शीर्ष सेलिब्रिटी कोच, एक्टर, एक्शन कोरियोग्राफर, फ्रीलांस कमांडो मेंटर और मुख्य एक्शन डिजाइनर भी हैं। वह “मिशन प्रहार” के संस्थापक हैं, जिसकी स्थापना 1999 में ग्रामीण भारत में अपने स्वयं के आविष्कारित मिटटी मार्शल आर्ट के चरम (extreme )आत्म-रक्षा अस्तित्व की रणनीति के साथ महिलाओं को शिक्षित, प्रशिक्षित और सशक्त बनाने के लिए की गई थी। उन्होंने सन १९९९ से लेकर सन २०२० तक लगभग 40 लाख से अधिक महिलाओं को गाँव-गाँव जाकर अपने और अपनी महिला प्रशिक्षकों की टीम के ख़र्चे स्वयं उठाकर सभी बहन,बेटियों, बच्चियों को नि: शुल्क प्रशिक्षण दिया है।

    (छवि-मिशन प्रहार के राष्ट्र्व्यापि प्रशिक्षणों की एक झलक)

    ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज ने 17 अक्टूबर 1999 को असम से “मिशन प्रहार” शुरू किया और इसका उद्देश्य ग्रामीण महिला समुदाय को विशेष रूप से निर्मित डिजाइन की गई प्रशिक्षण प्रणाली में प्रशिक्षित करना था, जिसे “मास्टर शिफूजी की मिशन प्रहार प्रशिक्षण प्रणाली” के रूप में जाना जाता है। मिशन प्रहार प्रशिक्षण किसी भी महिला के साहस का निर्माण करने और उस महिला में आत्मविश्वास बढ़ाने और उसे उसकी गरिमा और आत्मसम्मान के खिलाफ हमले की किसी भी प्रकृति का सामना करने के लिए पर्याप्त रूप से प्रशिक्षित करने का प्रयास करता है। मिशन प्रहार प्रशिक्षण कार्यक्रम एक मजबूत वास्तविकता-आधारित तकनीक प्रक्रिया का उपयोग करता है जो किसी भी अप्रत्याशित स्थिति में एक महिला को खुद का बचाव करने के लिए मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार करता है। मिशन प्रहार के कुछ तरीकों में पेन, हेयर-क्लिप्स, बुक्स, नेल कटर, एटीएम, आईडी कार्ड, जूडा स्टिक, सेल फोन और हैंडबैग जैसी एक्सेसरीज प्रति दिन की दिनचर्या में उपयोग आने वाली वस्तुओं के जरिए एक्सट्रीम सर्वाइवल सेल्फ डिफेंस तकनीक शामिल है। यह सरल प्रशिक्षण महिलाओं को और सजग तैयार, व्यावहारिक सड़क उत्तरजीविता रणनीति (practical street survival tactics), इन-हाउस घर के भीतर जानकार से बचाव प्रोटेक्शन कौशल, आत्म-अनुशासन, आत्म-जागरूकता और आत्मरक्षा में प्रशिक्षित करता है. मिशन प्रहार का उद्देश्य है राष्ट्र में महिलाओं को सशक्त बनाना। मिशन प्रहार शिक्षा और प्रशिक्षण ट्रस्ट,प्रबंध ट्रस्टी ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज के द्वारा संचालित है. मिशन प्रहार ट्रस्ट के दूसरे ट्रस्टी श्री पुरुषोत्तम सम्पंगी (एक आईटी और आईटी साइबर सुरक्षा वयोवृद्ध) हैं, इनके अलावा श्रीमती स्वर्णिम आरती तिवारी शौर्य भारद्वाज, श्रीमती ऋचा सुभ्रमनियम के साथ मिलकर प्रशिक्षण कार्यक्रमों से सम्बंधित राष्ट्रीय स्तर पर इसका सम्पूर्ण कार्यभार सम्भालती हैं.

    ग्रांडमास्टर शिफूजी को अपने समाधान निर्माता छवि के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है, जो हमेशा समस्याओं पर रोने के बजाय सबसे यथार्थवादी समाधान प्रदान करते हैं। वह कहते हैं कि अगर भारत में स्कूलों और कॉलेजों में सभी लड़कियों के लिए वास्तविकता आधारित जीवन रक्षा रणनीति और Street survival सड़क पर आधारित लड़ाई सुरक्षा कौशल अनिवार्य किए जाते हैं तो बलात्कार संख्या कम हो सकती है। मास्टर शीफूजी हमेशा अपने प्रशिक्षणों और उद्बोधनों में कहते हैं “लोग आमतौर पर सरकार, कानून और पुलिस पर आरोप लगाते हैं लेकिन अपनी मातृभूमि (भारत मां) के लिए कुछ भी करने की इच्छा रखते हैं”।

    Master%20Shifuji’s%20Mitti%20System%20Commandos%20Mentoring%209.jpg
    (छवि- उत्तराखंड पुलिस महिला कमांडो फ़ोर्स , मिट्टी सिस्टम सिस्टम प्रणाली Mitti System के प्रदर्शन के दौरान स्थान- देहरादून पुलिस लाइन,उत्तराखंड, उत्तराखंड की पहली महिला कमांडो फोर्स कमांडोस).

    इसके अलावा, ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज मास्टर शिफूजी के उन्नत सुरक्षा समाधान 9 (Shifuji’s Advanced Security Solutions ९ -SASS 9″ के संस्थापक और मुख्य प्रबंध निदेशक हैं। उन्होंने 1997 से लेकर अब तक सशस्त्र बलों की लगभग सभी सर्वोच्च विशिष्ट अभिजात वर्ग (Special forces )विशेष बलों और आतंकवाद रोधी इकाइयों को मिट्टी सिस्टम की निः शुल्क सेवाएं प्रदान की हैं । एक अभिनेता के रूप में, उन्होंने ‘बाघी’ ‘बाघी 2’, बाघी 3 में अभिनय किया है।

    एक्शन कंसल्टेंट, एक्शन डिजाइनर के रूप में उन्होंने कई अन्य ब्लॉकबस्टर एक्शन फिल्मों में परदे के पीछे काम किया है। उन्हें ऐक्शन स्टार टाइगर श्रॉफ, अहान शेट्टी और सुभान खान नाडियाडवाला के गुरु,मेंटॉर , और लाइफ कोच रूप में जाना जाता है।

    एक्शन कंसल्टेंट और एक्शन डिजाइनर के रूप में, उन्होंने वर्धा खान नाडियाडवाला, अजय देवगन, जॉन अब्राहम, कृषिका सुनील लुल्ला, श्रद्धा कपूर, शांतनु यादव, विद्युत जामवाल, जावेद जाफरी, नोरा फतेही, लीसा रे, सुधीर बाबू, वरिंदर सिंह, के साथ काम किया है घुमन।

    Mitti Martial Arts, MITTI HINIT कोच मेंटॉर के रूप में उन्होंने इत्ज़िक कोहेन इज़राइली वेटरन एक्टर, फिल्म निर्माता और निर्माता (FAUDA में कैप्टन गबी अयूब के अपने चरित्र के लिए जाने जाते हैं), काजोल देवगन, रोहित शेट्टी, अथिया शेट्टी, रघुवीर हंसराज अहीर जैसी प्रमुख हस्तियों को प्रशिक्षित किया है। अहीर, अमित ठाकरे, आरन चौधरी, वैष्णव एसके शेट्टी, लमहा मेहरा, सारिका शेट्टी (उपाध्यक्ष, बीएमडब्ल्यू), निसा देवगन, सुफियान नाडियाडवाला, अरहान चौधरी, अनिरुद्ध प्रताप सिंह (मसल फ़ैक्टरी), मेजर रुबीना कौर कीर, अभिनव शुक्ला, अली कुली मिर्ज़ा, आदिल चहल, रुद्र बारोट, अर्नव लुल्ला, मंत्र बारोट , राजा तिवारी, मायरा जसानी, डॉ रक्षा तिवारी, लड्डू यादव, शिव जसानी, देवेश शास्त्री भारद्वाज, प्रशांत सेंदने, अमन इनु तिवारी, पल मेहरा, राजवीर प्रताप भारद्वाज, हर्ष चीनू तिवारी, अतीक्षा दीक्षा भारद्वाज, बाबूलाल मिस्त्री, कृष्ण मूर्ति तिवारी।

    Mission%20Prahar%20Instructors%20team%20.jpg
    (छवि- मिशन प्रहार के प्रशिक्षकों की टीम, स्थान- मुंबई का बांद्रा कुरल काम्प्लेक्स )

    ग्रांड मास्टर शिफूजी की उनकी हालिया बड़ी परियोजना भारत की सबसे प्रतिष्ठित सर्जन डॉ अभिजीत देशमुख के साथ मिशन प्रचंड भारत शौर्य कंपनी है। इस मिशन प्रचंड भारत का उद्देश्य है की पीसीसी (PCC) सत्यापित भारतीय युवाओं को कम से कम 5 करोड़ रोजगार आधारित रोजगारपरक प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रदान करना.

    उनके अन्य उल्लेखनीय मिशन हैं, मिशन मेरी मिट्टी, मिशन प्रचंड भारत शौर्य, मिशन अनिवार्य सैन्य प्रशिक्षण, मिशन मुजफ्फराबाद, मिशन शहादत सम्मान, मिशन जय हिंद ब्रो , मिशन भारत मठ, मिशन वैदिक सैन्य स्कूल, मिशन मिट्टी बूट कैंप हैं। मास्टर शिफूजी की मिट्टी प्रणाली और इजरायल के आतंकवाद-रोधी प्रशिक्षण के घनिष्ठ मित्र मेजर ईटन कोहन हैं, जो इजरायल के विशेष बलों और आईडीएफ के एक स्नोर मोस्ट कमांडो इंस्ट्रक्टर हैं।

    Source: https://news29tv.in/india/%E0%A4%AE%E0%A4%BF%E0%A4%B2%E0%A4%BF%E0%A4%8F-%E0%A4%A6%E0%A5%81%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BE-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%B8%E0%A4%AC%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%98%E0%A4%BE%E0%A4%A4%E0%A4%95/3457/

  3. मिलिए दुनिया के सबसे घातक आतंकवाद रोधी प्रशिक्षण “मिट्टी सिस्टम” के आविष्कारक ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज से

    ग्रैंडमास्टर शिफूजी दुनिया के सबसे उन्नत विशिष्ट काउंटर-इंसर्जेंसी, काउंटर-टेररिज्म, सशस्त्र शहरी युद्ध प्रशिक्षण पाठ्यक्रम “मिट्टी सिस्टम” के आविष्कारक हैं, इस प्रणाली को एलीट स्पेशल फोर्सेज और स्पेशलाइज्ड ऑपरेशंस यूनिट्स के लिए सबसे आधुनिक अपरंपरागत अनुकूलन आधारित कार्यक्रम माना जाता है।

    (दिनांक- मार्च, १३,२०२१) ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज को विश्व के सर्वश्रेष्ठ कमांडोस मेंटॉर के रूप में स्वीकार किया जाता है, जो “मिट्टी सिस्टम” Mitti System के आविष्कारक हैं, मिट्टी सिस्टम Mitti System भारतीय स्वदेशी स्वनिर्धारित आतंकवाद रोधी शहरी युद्ध और आतंकवाद विरोधी प्रशिक्षण पद्धति है। मिट्टी सिस्टम Mitti System प्रणाली को दुनिया की सबसे उन्नत और सबसे आधुनिक आतंकवाद-रोधी प्रशिक्षण प्रणाली भी माना जाता है। ग्रैंडमास्टर शिफुजी शौर्य भारद्वाज के पास क़ानूनी एकाधिकार है मिट्टी सिस्टम Mitti System के ट्रेडमार्क और वर्ड मार्क का वे मिट्टी सिस्टम के वर्ड मार्क और ट्रेड मार्क के आधिकारिक मालिक हैं, जो कानूनी रूप से एकमात्र उन्हें ही दुनिया में इन Trade Marks का विशेष रूप से उपयोग करने एकाधिकार की अनुमति देता है। ये ट्रेडमार्क और वर्डमार्क ट्रेडमार्क अधिनियम 1999 के तहत लगभक एक दशक पहले से ही पंजीकृत हैं।

    ग्रैंडमास्टर शिफूजी की मिट्टी प्रणाली सिस्टम (Mitti System) पूरी तरह से “सशस्त्र बलों और भारतीय अर्धसैनिक बलों” के लिए पूर्णतः निः शुल्क (Free of Cost) प्रशिक्षण कार्यक्रम है। मास्टर शीफूजी के करोड़ों युवा अनुयायी हैं जो उन्हें अपना गुरु, उस्ताद मानते हैं, इन सभी में एक बात सामान्य (common) है कि ये ग्रांड मास्टर शिफूजी की तरह ही भारतीय सशस्त्र बलों और आराजनैतिक देशभक्ति में विश्वास करने वाले हैं । ये सभी करोड़ों युवा ग्रांडमास्टर शीफूजी के पागलपन की हद से भी अधिक राष्ट्रप्रेम ,अखंड देशभक्ति , और उनके बेबाक़ बोल्ड रवैये, घटक एक्सट्रीम फिटनेस के कारण भी उनका बहुत सम्मान करते हैं. और मास्टर शिफूजी के सम्मान का एक कारण यह भी है कि वह कभी भी अपने व्यक्तिगत ब्रांडिंग उद्देश्य के लिए उनकी फ्रीलांस कमांडो ट्रेनिंग, कमांडोस मेंटॉरिंग सेवाओं से संबंधित कुछ भी जानकारी कभी भी इंटर्नेट पर साझा नहीं करते हैं। निस्संदेह, ग्रैंडमास्टर शिफूजी दुनिया के टॉप 2 लिविंग लीजेंड्स में से एक है, अनेकों अंतरराष्ट्रीय मीडिया पॉर्टल्ज़ रिपोर्ट्स के अनुसार ग्रांड मास्टर शिफूजी को दुनिया के सबसे उच्चतम स्तर के प्रोफेशनल कमांडोज मेंटॉर माना गया है और हाल के ही “लंदन पोस्ट” के Tending लेख में उन्हें आतंकवाद के ख़िलाफ़ “The Deadliest Man Alive in The World” मतलब दुनिया का सबसे ख़तरनाक धुरंधर जीवित व्यक्ति माना गया है. वहीं “द न्यू यॉर्क टाइम्ज़ डेली” के पहले पन्ने के लेख के अनुसार ग्रांड मास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज को वर्ल्ड’स बेस्ट कमांडोज मेंटॉर विश्व का सर्वश्रेष्ठ कमांडोस का गुरु उल्लेखित किया गया है. इनके अलावा मास्टर शिफूजी के अभिन्न मित्र को इसी स्तर का विशेषज्ञ माना गया है जो की कैलिबर 3 के संस्थापक और सीईओ हैं, इजरायल के एक सेवारत कर्नल हैं कर्नल शेरोन गैट । वह वर्तमान में एक IDF Veteran वयोवृद्ध और इजरायली विशेष बलों और IDF के वरिष्ठ मुख्य प्रशिक्षक हैं।

    (छवि- उत्तराखंड पुलिस महिला कमांडो फ़ोर्स , मिट्टी सिस्टम सिस्टम प्रणाली Mitti System प्रशिक्षण के दौरान स्थान- देहरादून पुलिस लाइन,उत्तराखंड, उत्तराखंड की पहली महिला कमांडो फोर्स कमांडोस अपने उस्ताद जी ग्रांडमास्टर शिफूजी के साथ और छवि में अनिरुद्ध प्रताप सिंह और मेजर रूबीना कौर कीर भी हैं)

    ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज, जिसे पौराणिक गुरुजी,उस्ताद जी, मास्टर जी के रूप में जाना जाता है, “द वर्ल्ड्स बेस्ट कमांडोज मेंटर” के रूप में स्वीकार किए जाते हैं, एलीट कमांडो मेंटरिंग और एक्सट्रीम फिटनेस मिट्टी Mitti Boot Camp बूट कैंप इंडस्ट्री में अग्रणी हैं। ग्रैंडमास्टर शिफूजी एकमात्र विदेशी नागरिक और पहले भारतीय नागरिक हैं जिन्होंने सबसे घातक आतंकवाद-रोधी, आतंकवाद-रोधी और पूरी तरह सुसज्जित घातक शहरी लड़ाई (lethal Urban warfare )में ISRAEL से स्नातक प्रमाणपत्र और पीएचडी प्रमाणपत्र पूरा किया है। वह शीर्ष सेलिब्रिटी कोच, एक्टर, एक्शन कोरियोग्राफर, फ्रीलांस कमांडो मेंटर और मुख्य एक्शन डिजाइनर भी हैं। वह “मिशन प्रहार” के संस्थापक हैं, जिसकी स्थापना 1999 में ग्रामीण भारत में अपने स्वयं के आविष्कारित मिटटी मार्शल आर्ट के चरम (extreme )आत्म-रक्षा अस्तित्व की रणनीति के साथ महिलाओं को शिक्षित, प्रशिक्षित और सशक्त बनाने के लिए की गई थी। उन्होंने सन १९९९ से लेकर सन २०२० तक लगभग 40 लाख से अधिक महिलाओं को गाँव-गाँव जाकर अपने और अपनी महिला प्रशिक्षकों की टीम के ख़र्चे स्वयं उठाकर सभी बहन,बेटियों, बच्चियों को नि: शुल्क प्रशिक्षण दिया है।

    (छवि-मिशन प्रहार के राष्ट्र्व्यापि प्रशिक्षणों की एक झलक)

    ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज ने 17 अक्टूबर 1999 को असम से “मिशन प्रहार” शुरू किया और इसका उद्देश्य ग्रामीण महिला समुदाय को विशेष रूप से निर्मित डिजाइन की गई प्रशिक्षण प्रणाली में प्रशिक्षित करना था, जिसे “मास्टर शिफूजी की मिशन प्रहार प्रशिक्षण प्रणाली” के रूप में जाना जाता है। मिशन प्रहार प्रशिक्षण किसी भी महिला के साहस का निर्माण करने और उस महिला में आत्मविश्वास बढ़ाने और उसे उसकी गरिमा और आत्मसम्मान के खिलाफ हमले की किसी भी प्रकृति का सामना करने के लिए पर्याप्त रूप से प्रशिक्षित करने का प्रयास करता है। मिशन प्रहार प्रशिक्षण कार्यक्रम एक मजबूत वास्तविकता-आधारित तकनीक प्रक्रिया का उपयोग करता है जो किसी भी अप्रत्याशित स्थिति में एक महिला को खुद का बचाव करने के लिए मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार करता है। मिशन प्रहार के कुछ तरीकों में पेन, हेयर-क्लिप्स, बुक्स, नेल कटर, एटीएम, आईडी कार्ड, जूडा स्टिक, सेल फोन और हैंडबैग जैसी एक्सेसरीज प्रति दिन की दिनचर्या में उपयोग आने वाली वस्तुओं के जरिए एक्सट्रीम सर्वाइवल सेल्फ डिफेंस तकनीक शामिल है। यह सरल प्रशिक्षण महिलाओं को और सजग तैयार, व्यावहारिक सड़क उत्तरजीविता रणनीति (practical street survival tactics), इन-हाउस घर के भीतर जानकार से बचाव प्रोटेक्शन कौशल, आत्म-अनुशासन, आत्म-जागरूकता और आत्मरक्षा में प्रशिक्षित करता है. मिशन प्रहार का उद्देश्य है राष्ट्र में महिलाओं को सशक्त बनाना। मिशन प्रहार शिक्षा और प्रशिक्षण ट्रस्ट,प्रबंध ट्रस्टी ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज के द्वारा संचालित है. मिशन प्रहार ट्रस्ट के दूसरे ट्रस्टी श्री पुरुषोत्तम सम्पंगी (एक आईटी और आईटी साइबर सुरक्षा वयोवृद्ध) हैं, इनके अलावा श्रीमती स्वर्णिम आरती तिवारी शौर्य भारद्वाज, श्रीमती ऋचा सुभ्रमनियम के साथ मिलकर प्रशिक्षण कार्यक्रमों से सम्बंधित राष्ट्रीय स्तर पर इसका सम्पूर्ण कार्यभार सम्भालती हैं.

    ग्रांडमास्टर शिफूजी को अपने समाधान निर्माता छवि के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है, जो हमेशा समस्याओं पर रोने के बजाय सबसे यथार्थवादी समाधान प्रदान करते हैं। वह कहते हैं कि अगर भारत में स्कूलों और कॉलेजों में सभी लड़कियों के लिए वास्तविकता आधारित जीवन रक्षा रणनीति और Street survival सड़क पर आधारित लड़ाई सुरक्षा कौशल अनिवार्य किए जाते हैं तो बलात्कार संख्या कम हो सकती है। मास्टर शीफूजी हमेशा अपने प्रशिक्षणों और उद्बोधनों में कहते हैं “लोग आमतौर पर सरकार, कानून और पुलिस पर आरोप लगाते हैं लेकिन अपनी मातृभूमि (भारत मां) के लिए कुछ भी करने की इच्छा रखते हैं”।

    Master%20Shifuji’s%20Mitti%20System%20Commandos%20Mentoring%209.jpg
    (छवि- उत्तराखंड पुलिस महिला कमांडो फ़ोर्स , मिट्टी सिस्टम सिस्टम प्रणाली Mitti System के प्रदर्शन के दौरान स्थान- देहरादून पुलिस लाइन,उत्तराखंड, उत्तराखंड की पहली महिला कमांडो फोर्स कमांडोस).

    इसके अलावा, ग्रैंडमास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज मास्टर शिफूजी के उन्नत सुरक्षा समाधान 9 (Shifuji’s Advanced Security Solutions ९ -SASS 9″ के संस्थापक और मुख्य प्रबंध निदेशक हैं। उन्होंने 1997 से लेकर अब तक सशस्त्र बलों की लगभग सभी सर्वोच्च विशिष्ट अभिजात वर्ग (Special forces )विशेष बलों और आतंकवाद रोधी इकाइयों को मिट्टी सिस्टम की निः शुल्क सेवाएं प्रदान की हैं । एक अभिनेता के रूप में, उन्होंने ‘बाघी’ ‘बाघी 2’, बाघी 3 में अभिनय किया है।

    एक्शन कंसल्टेंट, एक्शन डिजाइनर के रूप में उन्होंने कई अन्य ब्लॉकबस्टर एक्शन फिल्मों में परदे के पीछे काम किया है। उन्हें ऐक्शन स्टार टाइगर श्रॉफ, अहान शेट्टी और सुभान खान नाडियाडवाला के गुरु,मेंटॉर , और लाइफ कोच रूप में जाना जाता है।

    एक्शन कंसल्टेंट और एक्शन डिजाइनर के रूप में, उन्होंने वर्धा खान नाडियाडवाला, अजय देवगन, जॉन अब्राहम, कृषिका सुनील लुल्ला, श्रद्धा कपूर, शांतनु यादव, विद्युत जामवाल, जावेद जाफरी, नोरा फतेही, लीसा रे, सुधीर बाबू, वरिंदर सिंह, के साथ काम किया है घुमन।

    Mitti Martial Arts, MITTI HINIT कोच मेंटॉर के रूप में उन्होंने इत्ज़िक कोहेन इज़राइली वेटरन एक्टर, फिल्म निर्माता और निर्माता (FAUDA में कैप्टन गबी अयूब के अपने चरित्र के लिए जाने जाते हैं), काजोल देवगन, रोहित शेट्टी, अथिया शेट्टी, रघुवीर हंसराज अहीर जैसी प्रमुख हस्तियों को प्रशिक्षित किया है। अहीर, अमित ठाकरे, आरन चौधरी, वैष्णव एसके शेट्टी, लमहा मेहरा, सारिका शेट्टी (उपाध्यक्ष, बीएमडब्ल्यू), निसा देवगन, सुफियान नाडियाडवाला, अरहान चौधरी, अनिरुद्ध प्रताप सिंह (मसल फ़ैक्टरी), मेजर रुबीना कौर कीर, अभिनव शुक्ला, अली कुली मिर्ज़ा, आदिल चहल, रुद्र बारोट, अर्नव लुल्ला, मंत्र बारोट , राजा तिवारी, मायरा जसानी, डॉ रक्षा तिवारी, लड्डू यादव, शिव जसानी, देवेश शास्त्री भारद्वाज, प्रशांत सेंदने, अमन इनु तिवारी, पल मेहरा, राजवीर प्रताप भारद्वाज, हर्ष चीनू तिवारी, अतीक्षा दीक्षा भारद्वाज, बाबूलाल मिस्त्री, कृष्ण मूर्ति तिवारी।

    Mission%20Prahar%20Instructors%20team%20.jpg
    (छवि- मिशन प्रहार के प्रशिक्षकों की टीम, स्थान- मुंबई का बांद्रा कुरल काम्प्लेक्स )

    ग्रांड मास्टर शिफूजी की उनकी हालिया बड़ी परियोजना भारत की सबसे प्रतिष्ठित सर्जन डॉ अभिजीत देशमुख के साथ मिशन प्रचंड भारत शौर्य कंपनी है। इस मिशन प्रचंड भारत का उद्देश्य है की पीसीसी (PCC) सत्यापित भारतीय युवाओं को कम से कम 5 करोड़ रोजगार आधारित रोजगारपरक प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रदान करना.

    उनके अन्य उल्लेखनीय मिशन हैं, मिशन मेरी मिट्टी, मिशन प्रचंड भारत शौर्य, मिशन अनिवार्य सैन्य प्रशिक्षण, मिशन मुजफ्फराबाद, मिशन शहादत सम्मान, मिशन जय हिंद ब्रो , मिशन भारत मठ, मिशन वैदिक सैन्य स्कूल, मिशन मिट्टी बूट कैंप हैं। मास्टर शिफूजी की मिट्टी प्रणाली और इजरायल के आतंकवाद-रोधी प्रशिक्षण के घनिष्ठ मित्र मेजर ईटन कोहन हैं, जो इजरायल के विशेष बलों और आईडीएफ के एक स्नोर मोस्ट कमांडो इंस्ट्रक्टर हैं।

    Source: https://news29tv.in/india/%E0%A4%AE%E0%A4%BF%E0%A4%B2%E0%A4%BF%E0%A4%8F-%E0%A4%A6%E0%A5%81%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BE-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%B8%E0%A4%AC%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%98%E0%A4%BE%E0%A4%A4%E0%A4%95/3457/

    SPORTS
    World’s Most Renowned Best Counter-Terrorism Expert Of All Time, The Deadliest Man Alive In The World, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Advances With Great Charitable Missions.

    By Sid Sharma On Jun 28, 2021
    Share
    Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj, the inventor of MITTI System and urban SRTs ( Situation Reaction Tactics), is currently working on his dream projects, Mission Prachand Bharat and Mission Prahar. Acknowledged as “The World’s Best Commandos Mentor” and the “World’s Best Commando Trainer,” he aims at equipping everyone with self-defence, self-esteem, and patriotism and believes the way to fight terrorism is to establish a union.

    In this article

    What is ‘Mission Prachand Bharat’ all about?
    His second mission aims at women empowerment and employment
    Immensely respected, he never shares mentoring services for personal gains
    About MITTI: Cost-free mentoring service for the forces
    He graduated from Israel in the most lethal counter-insurgency combat
    The program is customized for armed close-quarter battles
    He offers many customized training programs for police verified civilians
    He considers himself ‘EkSamanyaBharatiya,’ is a KallaripayattuGuruswamy
    He has worked with several prominent Bollywood and Israeli celebrities
    Grandmaster takes inspiration from Bhagat Singh, Chandra Shekhar Azad
    Aim

    What is ‘Mission Prachand Bharat’ all about?

    Mission Prachand Bharat will use the Gurukul way to educate Indians, which intends to instil good moral values, pride and nationalism, along with Sanatan Vedic military training, disaster management skills and extreme survival tactics. A selfless aim of the mission is to mentor the youth in different practical-based skills, prepare them to be accountable, employable, and generate 50 million jobs for them.

    Mission Prahar- His second mission aims at women empowerment and employment.

    His second project, Mission Prahar, aims at women empowerment by training a minimum of 10 million women and instilling in them the confidence to protect themselves against various threats. Over four million women have undergone training since 1999, especially in rural India. His Mission Prahar Education and Training Trust are working to mentor 40-50% of trainees to be instructors and generate a respectful living.

    Details

    Immensely respected, he never shares mentoring services for personal gains.

    Unsurprisingly, the Grandmaster has a tremendous following that believes in apolitical patriotism, respect for the Indian Armed Forces, and great respect for a soldier’s supreme sacrifice for the holy motherland. The patriots immensely respect Grandmaster Shifuji because he never shares any detail related to his MITTI System’s Freelance Commandos mentoring services for personal or professional branding.

    World’s most modern CI, CT system – MITTI

    About MITTI SYSTEM: Cost-free mentoring service for the Indian armed forces and Special Forces.

    He is the pioneer in the elite commandos mentoring and extreme fitness MITTI boot camps industry. It is a cost-free mentoring service exclusively for the Special Forces, Indian Armed forces, CAPF, and Indian Paramilitary Forces. The confidentiality maintained by him makes this technique unique. It is the most modern armed counter-terrorism system and is considered indigenous Swadeshi Indian customized SRTs.

    Information

    He completed his Graduation Certification Course and PHD Certification Course from Israel.

    Grandmaster Shifuji is the only foreign citizen and the first-ever Indian citizen to have completed the graduation certificate and PhD certificate from Israel in the most lethal counter-insurgency, counter-terrorism, and wholly equipped urban combat.

    MITTI System training program is customized for armed close-quarter battles.

    The program is customized for armed close-quarter battles with and without SRW or LRW. It focuses on the responsive reflexes, invisible upper body agility, strength, and the rule of “NO RULE” in armed direct urban warfare. He is one of the world’s top two living legends, the other being the founder & CEO of Caliber 3, Colonel Sharon Gat from Israel.

    He offers many customized training programs for police verified civilians.

    Grandmaster Shifuji offers many customized training programs, like MITTIHINIT, MITTI martial arts, MITTI Boot Camps, Shifuji’s Modern Kalaripayattu, and MITTI’s Corporate Boot Camps for police verified civilians. He provides an extreme fitness routine, known as Shifuji’sDesi MITTI Martial Arts, HINIT program for Civil Service provisioner officers and MITTI System’s Law Enforcement training programs. He also has programs for paramilitary forces and Central Armed Police Forces.

    He considers himself an ordinary Indian (‘EkSamanyaBharatiya),’ is a KallaripayattuGuruswamy.

    As a patriot, Grandmaster Shifuji considers himself EkSamanyaBharatiya, an ordinary Indian citizen. As a freelance commandos mentor, he is an expert on Customized Counter Terrorism, Counter Insurgency, Tactical modern and traditional warfare art forms, and the ‘akhada’ and ‘desi’ system. He is a KallaripayattuGuruswamy, one of Verm and MarmaKalari’s most excellent expert guru, a Bollywood action designer, and an action consultant.

    Filmy connection

    He has worked with several prominent Bollywood and Israeli celebrities.

    Grandmaster Shifuji is well known for being the mentor, life coach, and master of Tiger Shroff, Ahan Shetty, and Subhan Khan Nadiadwala, SufyanNadiadwala.

    As an action consultant and action designer, he has worked with Warda Khan, S. Nadiadwala, and several Israeli filmmakers. He has also worked with prominent Bollywood celebrities like Ajay Devgn, John Abraham,RohitShetty, Shraddha Kapoor, Javed Jaffrey, Nora Fatehi, SudhirBabu etc.

    Grandmaster takes inspiration from great revolutionaries Martyr Bhagat Singh, Martys Chandra Shekhar Azad.

    Some of his notable missions include MeriMitti, Prachand Bharat Shaurya, Compulsory Military Training, Mission Muzaffarabad, ShahadatSamman, and Jai Hind Bro. Grandmaster Shifuji takes inspiration from revolutionaries like Bhagat Singh, Chandra Shekhar Azad, maintains a similar moustache, and wears clothes with the revolutionaries’ faces printed. He wants to unite the nation against threats, preparing the youth to be ready for action.

    The Living Legend-

    Grandmaster ShifujiShaurya Bhardwaj Sir, A Living Legend, A Grand Master on numerous missions for his motherland with The SUPREME Knowledge of customized Counter-Terrorism and Urban Warfare Mitti System”. “THE DEADLIEST MAN ALIVE IN THE WORLD. The deadliest man in a concrete practice for humanity and against Terrorism. A Grand Master on numerous missions for his motherland with The SUPREME Knowledge of customized Counter-Terrorism and Urban Warfare Mitti System”. “THE DEADLIEST MAN ALIVE IN THE WORLD. The deadliest man in a concrete practice for humanity and against Terrorism. A Grand Master on numerous missions for his motherland with The SUPREME Knowledge of customized Counter-Terrorism and Urban Warfare Mitti System”. “THE DEADLIEST MAN ALIVE IN THE WORLD. The deadliest man in a concrete practice for humanity and against Terrorism. Legendary Grandmaster ShifujiShaurya Bhardwaj Sir becomes the World’s Youngest Inventor of the Most Modern Counter-Terrorism System “Mitti System. He is also acknowledged as “World’s Best Commandos Mentor” and World’s Best Commando Trainer. For more information- https://www.mastershifuji.com.

  4. SPORTS
    World’s Most Renowned Best Counter-Terrorism Expert Of All Time, The Deadliest Man Alive In The World, Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj Advances With Great Charitable Missions.

    By Sid Sharma On Jun 28, 2021
    Share
    Grandmaster Shifuji Shaurya Bhardwaj, the inventor of MITTI System and urban SRTs ( Situation Reaction Tactics), is currently working on his dream projects, Mission Prachand Bharat and Mission Prahar. Acknowledged as “The World’s Best Commandos Mentor” and the “World’s Best Commando Trainer,” he aims at equipping everyone with self-defence, self-esteem, and patriotism and believes the way to fight terrorism is to establish a union.

    In this article

    What is ‘Mission Prachand Bharat’ all about?
    His second mission aims at women empowerment and employment
    Immensely respected, he never shares mentoring services for personal gains
    About MITTI: Cost-free mentoring service for the forces
    He graduated from Israel in the most lethal counter-insurgency combat
    The program is customized for armed close-quarter battles
    He offers many customized training programs for police verified civilians
    He considers himself ‘EkSamanyaBharatiya,’ is a KallaripayattuGuruswamy
    He has worked with several prominent Bollywood and Israeli celebrities
    Grandmaster takes inspiration from Bhagat Singh, Chandra Shekhar Azad
    Aim

    What is ‘Mission Prachand Bharat’ all about?

    Mission Prachand Bharat will use the Gurukul way to educate Indians, which intends to instil good moral values, pride and nationalism, along with Sanatan Vedic military training, disaster management skills and extreme survival tactics. A selfless aim of the mission is to mentor the youth in different practical-based skills, prepare them to be accountable, employable, and generate 50 million jobs for them.

    Mission Prahar- His second mission aims at women empowerment and employment.

    His second project, Mission Prahar, aims at women empowerment by training a minimum of 10 million women and instilling in them the confidence to protect themselves against various threats. Over four million women have undergone training since 1999, especially in rural India. His Mission Prahar Education and Training Trust are working to mentor 40-50% of trainees to be instructors and generate a respectful living.

    Details

    Immensely respected, he never shares mentoring services for personal gains.

    Unsurprisingly, the Grandmaster has a tremendous following that believes in apolitical patriotism, respect for the Indian Armed Forces, and great respect for a soldier’s supreme sacrifice for the holy motherland. The patriots immensely respect Grandmaster Shifuji because he never shares any detail related to his MITTI System’s Freelance Commandos mentoring services for personal or professional branding.

    World’s most modern CI, CT system – MITTI

    About MITTI SYSTEM: Cost-free mentoring service for the Indian armed forces and Special Forces.

    He is the pioneer in the elite commandos mentoring and extreme fitness MITTI boot camps industry. It is a cost-free mentoring service exclusively for the Special Forces, Indian Armed forces, CAPF, and Indian Paramilitary Forces. The confidentiality maintained by him makes this technique unique. It is the most modern armed counter-terrorism system and is considered indigenous Swadeshi Indian customized SRTs.

    Information

    He completed his Graduation Certification Course and PHD Certification Course from Israel.

    Grandmaster Shifuji is the only foreign citizen and the first-ever Indian citizen to have completed the graduation certificate and PhD certificate from Israel in the most lethal counter-insurgency, counter-terrorism, and wholly equipped urban combat.

    MITTI System training program is customized for armed close-quarter battles.

    The program is customized for armed close-quarter battles with and without SRW or LRW. It focuses on the responsive reflexes, invisible upper body agility, strength, and the rule of “NO RULE” in armed direct urban warfare. He is one of the world’s top two living legends, the other being the founder & CEO of Caliber 3, Colonel Sharon Gat from Israel.

    He offers many customized training programs for police verified civilians.

    Grandmaster Shifuji offers many customized training programs, like MITTIHINIT, MITTI martial arts, MITTI Boot Camps, Shifuji’s Modern Kalaripayattu, and MITTI’s Corporate Boot Camps for police verified civilians. He provides an extreme fitness routine, known as Shifuji’sDesi MITTI Martial Arts, HINIT program for Civil Service provisioner officers and MITTI System’s Law Enforcement training programs. He also has programs for paramilitary forces and Central Armed Police Forces.

    He considers himself an ordinary Indian (‘EkSamanyaBharatiya),’ is a KallaripayattuGuruswamy.

    As a patriot, Grandmaster Shifuji considers himself EkSamanyaBharatiya, an ordinary Indian citizen. As a freelance commandos mentor, he is an expert on Customized Counter Terrorism, Counter Insurgency, Tactical modern and traditional warfare art forms, and the ‘akhada’ and ‘desi’ system. He is a KallaripayattuGuruswamy, one of Verm and MarmaKalari’s most excellent expert guru, a Bollywood action designer, and an action consultant.

    Filmy connection

    He has worked with several prominent Bollywood and Israeli celebrities.

    Grandmaster Shifuji is well known for being the mentor, life coach, and master of Tiger Shroff, Ahan Shetty, and Subhan Khan Nadiadwala, SufyanNadiadwala.

    As an action consultant and action designer, he has worked with Warda Khan, S. Nadiadwala, and several Israeli filmmakers. He has also worked with prominent Bollywood celebrities like Ajay Devgn, John Abraham,RohitShetty, Shraddha Kapoor, Javed Jaffrey, Nora Fatehi, SudhirBabu etc.

    Grandmaster takes inspiration from great revolutionaries Martyr Bhagat Singh, Martys Chandra Shekhar Azad.

    Some of his notable missions include MeriMitti, Prachand Bharat Shaurya, Compulsory Military Training, Mission Muzaffarabad, ShahadatSamman, and Jai Hind Bro. Grandmaster Shifuji takes inspiration from revolutionaries like Bhagat Singh, Chandra Shekhar Azad, maintains a similar moustache, and wears clothes with the revolutionaries’ faces printed. He wants to unite the nation against threats, preparing the youth to be ready for action.

    The Living Legend-

    Grandmaster ShifujiShaurya Bhardwaj Sir, A Living Legend, A Grand Master on numerous missions for his motherland with The SUPREME Knowledge of customized Counter-Terrorism and Urban Warfare Mitti System”. “THE DEADLIEST MAN ALIVE IN THE WORLD. The deadliest man in a concrete practice for humanity and against Terrorism. A Grand Master on numerous missions for his motherland with The SUPREME Knowledge of customized Counter-Terrorism and Urban Warfare Mitti System”. “THE DEADLIEST MAN ALIVE IN THE WORLD. The deadliest man in a concrete practice for humanity and against Terrorism. A Grand Master on numerous missions for his motherland with The SUPREME Knowledge of customized Counter-Terrorism and Urban Warfare Mitti System”. “THE DEADLIEST MAN ALIVE IN THE WORLD. The deadliest man in a concrete practice for humanity and against Terrorism. Legendary Grandmaster ShifujiShaurya Bhardwaj Sir becomes the World’s Youngest Inventor of the Most Modern Counter-Terrorism System “Mitti System. He is also acknowledged as “World’s Best Commandos Mentor” and World’s Best Commando Trainer. For more information- https://www.mastershifuji.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Double Categories Posts 1

Double Categories Posts 2

Posts Slider