Fri. May 27th, 2022

उन्नाव गैंगरेप में कब क्या हुआ- जुल्म की खौफनाक कहानी

1 min read
unnao_rape

शुक्रवार रात 11 बजकर 40 मिनट पर खत्म हुई दरिंदगी की ये खौफनाक कहानी शुरू हुई थी. करीब डेढ़ साल पहले जब उन्नाव के ही शिवम ने पीड़िता को अपनी गंदी और खौफनाक साजिशों का शिकार बनाया था.
उन्नाव गैंगरेप की पीड़िता का दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में देर रात निधन हो गया. पीड़िता को एयरलिफ्ट करके लखनऊ से दिल्ली लाया गया था. पीड़िता का शरीर 95 फीसदी जल चुका था. सफदरजंग अस्पताल के प्रवक्ता ने उन्नाव रेप पीड़िता के निधन की पुष्टि की है.
सफदरजंग अस्पताल के बर्न एंड प्लास्टिक सर्जरी डिपार्टमेंट के हेड डॉ. शलभ कुमार ने बताया, ‘हमारे बड़े प्रयासों के बावजूद पीड़िता को बचाया नहीं जा सका. शाम में ही उसकी हालत खराब होनी शुरू हो गई थी. रात 11.10 बजे उसे कार्डियक अरेस्‍ट आया. हमने इलाज शुरू किया और उसे बचाने की पूरी कोशिश की, लेकिन रात में 11.40 बजे उसकी मौत हो गई.
शुक्रवार रात 11 बजकर 40 मिनट पर खत्म हुई दरिंदगी की ये खौफनाक कहानी शुरू हुई थी करीब डेढ़ साल पहले जब उन्नाव के ही शिवम ने पीड़िता को अपनी गंदी और खौफनाक साजिशों का निशाना बनाया था. जानकारी के मुताबिक इस मामले के मुख्य आरोपी शिवम के साथ शादी को लेकर पीड़ित का विवाद चल रहा था.
आरोप है कि शिवम ने शादी का झांसा देकर पीड़िता का यौन शोषण किया और बाद में अपने वादे से मुकर गया. पीड़ित ने जब दबाव बनाया तो आरोपी शिवम ने कोर्ट से शादी के दस्तावेज भी तैयार करवाए. लेकिन इसके बावजूद वो पीड़िता को धोखा देकर फिर से गायब हो गया.

12 दिसंबर 2018

पीड़िता ने जब दोबारा आरोपी पर शादी का दबाव बनाया तो वो ब्लैकमेलिंग पर उतर आया. लेकिन पीड़िता के बार-बार कहने पर उसने एक बार फिर उसे बातचीत के लिए बुलाया. पीड़िता को इस बात का इल्म नहीं था कि वह सिर्फ एक बहाना था. यह बात 12 दिसंबर 2018 की है. पीड़िता जब शिवम की बताई गई जगह पर पहुंची तो वहां शिवम के साथ उसका साथी शुभम भी था. दोनों ने पीड़िता को अपनी हैवानियत का शिकार बनाया.
गैंगरेप का शिकार हुई पीड़िता जब पुलिस के पास शिकायत दर्ज करवाने पहुंची तो आरोपियों का रसूख आरोपियों से भी बड़ा दुश्मन बन कर खड़ा था. पीड़िता चक्कर लगा-लगा कर हार गई लेकिन पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की. उसके बाद जब कोर्ट से वॉरंट आया तब जाकर इस मामले में केस दर्ज हुआ.
रायबरेली कोर्ट में केस दर्ज होने के बाद शिवम की गिरफ्तारी तो हो गई लेकिन उसके परिवार की तरफ से पीड़ित और उसके घरवालों को केस वापस लेने के लिए लगातार धमकियां मिलने लगीं. कई बार तो पिता से मारपीट भी हुई.

1 दिसंबर 2019

पीड़िता के पिता को अंदाजा नहीं रहा होगा कि उसे दी जा रही धमकियां हकीकत के कितने नजदीक हैं. 1 दिसंबर को जेल से रिहा होते ही आरोपी शिवम ने अपने दोस्तों के साथ एक और खौफनाक साजिश बुन डाली.

5 दिसंबर 2019

जेल से रिहा होने के चौथे दिन ही शिवम ने अपनी साजिश को अंजाम दे दिया. पीड़िता अपने वकील से मिलने के लिए रायबरेली जाने की तैयारी में थी. लेकिन स्टेशन जाने के रास्ते में ही आरोपियों ने उसे घेरकर आग के हवाले कर दिया. पीड़िता ने लगभग एक किमी तक उसी हालत में दौड़ लगाई. किसी के मोबाइल फोन से 112 को फोन किया और पुलिस को घटना की जानकारी भी दी.
घटना के कुछ घंटों के अंदर ही 5 आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ गए. पीड़िता को इलाज के लिए लखनऊ पहुंचाया गया, हालत बेहद नाजुक होने के चलते एयरलिफ्ट करके गुरुवार रात दिल्ली पहुंचा दिया गया.

6 दिसंबर 2019

सफदरजंग अस्पताल में भर्ती होने के करीब 24 घंटे बाद शुक्रवार रात 11:40 बजे उसने दम तोड़ दिया.

7 दिसंबर 2019

सुबह 10 बजे के बाद होना है पीड़िता के शव का पोस्टमॉर्टम. दोपहर करीब 12 बजे दिल्ली से वापस ले जाया जाएगा शव.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Double Categories Posts 1

Double Categories Posts 2

Posts Slider